जागरण संवाददाता, करनाल : दो युवकों को विदेश भेजने की आड़ में करीब 28 लाख रुपये ठग लिए जाने का मामला सामने आया है। पुलिस ने दोनों मामलों में तमाम पहलुओं से जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

पहले मामले में गांव दादूपुर रोडान निवासी बाबू राम ने पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाते हुए बताया कि उसके भतीजे राममेहर की पहचान सतबीर से हुई तो उसने उसे अपने पास कार चालक के तौर पर रख लिया। कुछ दिनों बाद उसने उसे 26 लाख रुपये में अमेरिका भेज देने का भरोसा दिया और कहा कि वह अमेरिका जाकर अच्छी कमाई कर सकेगा। राममेहर ने यह बात स्वजनों को बताई और जब वह अमेरिका जाने की जिद करने लगा तो उन्होंने और राममेहर के पिता ने बेहद मुश्किल से यह राशि एकत्रित की और अलग-अलग समय में आरोपित को दी। इसके बाद उसने राममेहर को दिल्ली से एक्वाडोर भेजा दिया और वहां से उसे कभी समुद्र तो कभी जंगल के रास्ते मैक्सिको पहुंचाया, जहां से उसे अवैध रूप से अमेरिका में छोड़ दिया गया। वहां जाते ही उसे पुलिस ने पकड़ लिया, लेकिन आरोपितों ने तय राशि लेने के बावजूद भी उससे संपर्क करना तक उचित नहीं समझा। वहां के प्रशासन ने उसे वापस भारत भेज दिया और जब यहां आने के बाद आरोपित से पैसे वापस देने की मांग की तो इंकार कर दिया और जान से मारने की धमकी दी जाने लगी। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। वहीं दूसरे मामले में गांव सिगड़ा वासी चरणदास ने पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाते हुए बताया कि कृष्ण राजपूत ने उसे एक लाख 70 हजार रुपये में वर्क परमिट पर दुबई भेजने का भरोसा दिया था, लेकिन जब वह दुबई पहुंचा तो उसे पता चला कि उसे टूरिस्ट वीजा थमा दिया गया। वापस आने के बाद जब दी राशि लौटाने की मांग की तो आरोपित ने इंकार कर दिया। पुलिस ने इस संबंध में भी आरोपित के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस