जागरण संवाददाता, करनाल : पुलिस थानों में तैनात पुलिस अब फरियादियों के सीधे संपर्क में नहीं आएगी। दोनों के बीच पारदर्शी पर्दा होगा। इसके एक तरफ फरियादी होगा तो दूसरी तरफ पुलिस कर्मी उसकी न केवल शिकायत लेगा बल्कि समस्या भी सुनेगा। पुलिस थानों में यह व्यवस्था कोरोना संक्रमण से पुलिस कर्मियों व फरियादियों को बचाने के लिए फिलहाल आठ थानों में की गई है जबकि बाकी थानों व चौकियों के लिए भी यह प्लास्टिक टेंट रूपी पर्दा लगाने के लिए तैयारी चल रही है। एसपी एसएस भौरिया ने थाने पहुंचकर न केवल यह व्यवस्था देखी बल्कि एलजी कंपनी के अधिकारियों का आभार भी जताया। उन्होंने कहा कि करोना महामारी को देखते हुए पहले भी पुलिस कर्मचारियों को सुरक्षा को मध्यनजर रखते हुए कई कदम उठाये गये है। जहां लॉकडाउन के दौरान सैनेटाइजर वैन नाकों पर ही भेजी गई तो वहीं पुलिस थाने भी बार-बार सैनिटाइज किए गए। यहां तक कि थानों में सैनिटाइजर बॉक्स भी रखे गए, जिनमें वे अपनी वर्दी, बेल्ट, पर्स सहित अन्य सामान भी कुछ ही समय के दौरान सैनिटाइज कर सकते है। एसपी ने कहा कि पुलिस के लिए यह वक्त काफी कठिन है क्योंकि पुलिस कर्मचारियों को पब्लिक के बीच रह कर अपने कर्तव्य का वहन करना है। पुलिस व पब्लिक का सीधा सम्पर्क होने के कारण पुलिस कर्मचारियो संक्रमित होने के अधिक सम्भावना बनी रहती है। इन थानों में व्यवस्था

पारदर्शी पर्दा फिलहाल थाना शहर, सदर, सिविल लाइन, महिला थाना, सेक्टर 32-33, तरावड़ी व बुटाना में की गई है जबकि अन्य थानों के लिए भी तैयारी की जा रही है। एसपी के अनुसार अन्य थानों के बाद पुलिस चौकियों में भी यह व्यवस्था कराए जाने के प्रयास किए जाएंगे। एसपी एसएस भौरिया ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि यदि बहुत जरूरी ना हो तो थाना परिसर आने से बचें। घर बैठे ऑनलाइन या थाना की ई-मेल व फोन के माध्यम दरखास्त दी जा सकती है या सूचित किया जा सकता है। पुलिस संबंधित व्यक्ति तक स्वयं पहुंचकर कार्रवाई करेगी। शिकायत के लिए एक व्यक्ति के साथ काफी लोग भी थानों में आ जाते हैं, ऐसा करने से भी बचें। इस अवसर पर एलजी के क्षेत्रीय प्रबंधक हर्ष शर्मा, मार्केटिग मैनेजर अमित शर्मा, ब्रांच मैनेजर दिवेश शर्मा व सिविल लाइन थाना एसएचओ संजीव गौड़ भी मौजूद थे।

Edited By: Jagran