जागरण संवाददाता, करनाल: सात हरियाणा बटालियन की ओर से पंडित चिरंजीलाल राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में संयुक्त वार्षिक एनसीसी प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया जा रहा है। इसके तीसरे दिन बटालियन के कमांडिग आफिसर कर्नल नरेश आर्य ने एनसीसी के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला।

कैडेट्स से संवाद में उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रशिक्षण शिविर के बाद कैडेट बेहतर इंसान बनते हैं। उन्होंने बताया कि शिविर के दौरान मैप रिडिग, ड्रिल, हथियार संचालन, युद्ध कौशल और फायरिग का अभ्यास कराया जा रहा है। कैडेट्स के बीच सांस्कृतिक, प्रश्नोत्तरी, वाद-विवाद प्रतियोगिता कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि कैडेट को प्रशिक्षण में सीखी गई बातों को अपने जीवन में उतारना चाहिए। उन्हें नेतृत्व व व्यक्तित्व विकास की शिक्षा और प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

कैप्टन प्रवीण कौशिक एवं एसोसिएट एनसीसी आफिसर डा. केवल कृष्ण ने बताया कि अनुशासन बनाए रखने के लिए रेंज ड्रिल आवश्यक होती है। उस दौरान रेंज पर सुरक्षा व अनुशासन आवश्यक है। सभी कैडेट को रेंज कार्य विधि का ज्ञान होना आवश्यक है। उन्होंने बताया कि वन शाट-वन किल (एक गोली, एक दुश्मन) के आदर्श वाक्य के साथ कैडेट्स हथियार चलाना सीख रहे हैं। इस प्रशिक्षण में कैडेट्स को हथियार खोलना और जोड़ना, हथियार की साफ-सफाई, मैगजीन भरना, सही सिस्त लेते हुए निशाना लगाना, ट्रिगर आपरेशन आदि की जानकारी भी दी जा रही है।

इस मौके पर एडम आफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल कुलदीप कुमार, कैप्टन राजेश कुमार, कैप्टन प्रवीण कौशिक, कैप्टन अनीता जून, लेफ्टिनेंट प्रदीप राणा, सूबेदार मेजर सुखविदर सिंह, सूबेदार राजेश कुमार, वरिष्ठ लिपिक कृष्ण लाल, लिपिक प्रगति एवं अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran