मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सहयोगी, घरौंडा : सुरक्षा सप्ताह के अंतर्गत इंडेन बाटलिग प्लांट में आग लगने से बचाव की मॉक ड्रिल की गई। प्लांट में सायरन गूंजते ही दमकल टीम और कर्मचारी अलर्ट हो गए और आपात स्थिति में सुरक्षा के लिए तैयार हो गए। गैस प्लांट में हुई आगजनी की सूचना पानीपत रिफाइनरी व घरौंडा फायर ब्रिगेड को भी दी गई। मौके पर पहुंची दमकल विभाग की टीम ने तेजी के साथ कार्रवाई करते हुए आग पर काबू कर पाया।

इंडेन प्लांट के जीएम विशाल उड़िया ने बताया कि मॉक ड्रिल का उद्देश्य आपातकाल की स्थिति में कार्य करने वाले सिस्टम को चेक करना होता है। उन्होंने बताया कि इस तरह की ड्रिल से प्लांट में काम कर रहे कर्मचारियों व अन्य लोगों को भी आगजनी के खतरे से निपटने की जानकारी मिलती है।

कोहंड असंध मार्ग पर गुढा गांव के पास स्थित इंडेन के एलपीजी बाटलिग प्लांट में आग लगने की सूचना से हड़कंप मच गया। प्लांट में लगा सायरन गूंजने से रेस्क्यू टीम ने तेजी के साथ अपना कार्य शुरू कर दिया। सूचना मिलने पर पानीपत रिफाइनरी व फायर ब्रिगेड घरौंडा से अग्निशमन गाड़ियां गैस प्लांट पहुंची। चंद ही मिनटों में दमकल टीम ने फायर स्पॉट को चिन्हित करते हुए पानी की बौछार शुरू कर दी। स्थिति पर काबू होने के बाद अधिकारियों ने बताया कि यह एक फायरमॉक ड्रिल थी। प्लांट में जीएम विशाल उड़िया ने कहा कि 14 से 20 अप्रैल तक कंपनी सुरक्षा सप्ताह मना रही है। इस दौरान आगजनी व अन्य दुर्घटना की स्थिति में मिलने वाली त्वरित मदद और सुरक्षा इंतजामों को परखा जाता है। उन्होंने कहा कि सुबह 11 बजे मॉक ड्रिल शुरू की गई थी और उम्मीद के अनुसार रिफाइनरी व घरौंडा दमकल विभाग की टीम का रिस्पोंस टाइम सही रहा है। विशाल उड़िया ने गैस प्लांट के आस-पास स्थित खेत मालिकों से अपील करते हुए कहा कि वे फसल अवशेषों में आग न लगाये। उन्होंने कहा कि बाटलिग प्लांट बेहद संवेदनशील क्षेत्र है। इसलिए यहां की सुरक्षा व्यवस्था कम्पनी निरंतर जांचती है। मॉक ड्रिल के बाद जीएम ने प्लांट के अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ मीटिग की और बचाव में राहत कार्यो में आई किसी भी तरह की दिक्कत के बारे में पूछा।

इस मौके पर जयपाल सिंह नेगी, नवीन मुखीजा, रवि दुआ, प्रवीन अरोड़ा, धीरज, रेशमा सिंह मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप