जागरण संवाददाता, करनाल: बीते दिनों कैमला गांव में किसान महापंचायत के दौरान हुए हंगामे के बाद अब इस मामले की आड़ में निर्माण ईकाइयों को निशाने पर लिया जा रहा है। आरोप है कि यही हकीकत दिखाते हुए कुछ प्रदर्शनकारियों ने कैमला से करीब 25 किलोमीटर दूर स्थित एक फैक्ट्री में पहले तोड़-फोड़ की और अब उनका साथ न देने पर फैक्ट्री बंद करने की धमकी दी जा रही है। पीड़ित ने पुलिस से इसकी शिकायत करते हुए आवश्यक कार्रवाई की गुहार लगाई है।

गांव कैमला के रहने वाले बलविद्र सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाते हुए बताया है कि उसने असंध-जुंडला रोड पर गांव से करीब 25 किलोमीटर दूरी पर सीमेंट के बैंच, ईटें बनाने के लिए जमीन किराए पर लेकर फैक्ट्री लगाई हुई है। रविवार को जब किसान महापंचायत को रोकने के लिए उपद्रव किया तो गांव के अन्य लोगों के साथ वे भी आंदोलनकारियों को समझाने का प्रयास करते रहे, लेकिन ये लोग नहीं माने और किसान महापंचायत स्थल पर जमकर उत्पात मचाया। यहीं नहीं उसे भी निशाने पर लेते हुए कुछ लोग फैक्ट्री में पहुंच गए और जमकर तोड़फोड़ की, जिससे उन्हें भारी नुकसान हुआ। इसके बाद उसके पास सोमवार को भी जमीन मालिक हरपाल व रणधीर सिंह आदि ने उन्हें धमकी दी कि जब वे आंदोलन में साथ नहीं दे पाए तो अब उन्हें जमीन खाली करनी पड़ेगी। ऐसा न करने पर आरोपित उसे जान से मारने की धमकी भी दे रहे हैं।

पीड़ित के अनुसार आरोपित फैक्ट्री न हटाने पर फिर तोड़फोड़ करने की धमकी दे रहे हैं, जिसके चलते उन्हें आशंका है कि ऐसे लोग कभी भी फैक्ट्री में हमला कर सकते हैं। शिकायत के आधार पर पुलिस ने उक्त दो आरोपितों के खिलाफ अलग-अलग धाराओं के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। उधर एसएचओ थाना सदर बलजीत सिंह का कहना है कि अभी शिकायत के आधार पर दो आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। तमाम पहलुओं से पूरे मामले की जांच की जा रही है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021