नंबर गेम

20 लाख जारी होने के बावजूद नहीं मिल रही सुविधाएं

03 माह में होना था काम पूरा, आठ महीने बाद भी अधूरा जागरण संवाददाता, करनाल : कर्ण स्टेडियम स्थित बॉक्सिंग हॉल के नवीनीकरण का कार्य तीन माह में पीडब्ल्यूडी की ओर से पूरा किया जाना था, जोकि आठ माह बाद भी अधूरा है। 20 लाख की लागत से 21 मई 2018 को निर्माण कार्य शुरू किया था। खेल विभाग की ओर से खिलाड़ियों के लिए मोटी रकम खर्च करने के बावजूद खिलाड़ियों को सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। स्टेडियम में बॉक्सिंग सीख रहे 70 खिलाड़ियों को एक ¨रग में अभ्यास कराने के लिए मजबूर हैं, जबकि दूसरे ¨रग का सामान खुले में पड़े होने के कारण जंग खा रहा है। बॉक्सिंग हॉल के बाहर बनाए फर्श की हालत निर्माण के दौरान ही खस्ता हो चुकी है। इसके अलावा खिलाड़ियों को न बिजली की सुविधा है और न शेड की। बॉक्सिंग कोच सुरेंद्र चौहान ने बताया कि यहां 70 खिलाड़ी रोजाना अभ्यास करते हैं। खिलाड़ियों की बेहतर परफॉर्मेस के लिए सुविधाओं का होना बेहद जरूरी है। बिजली का काम अधूरा पड़ा है और पीडब्ल्यूडी अधिकारी पल्ला झाड़ रहे हैं। दीवारों पर टांग दी लाइट्स

पीडब्ल्यूडी की ओर से आठ माह पहले बॉक्सिंग हॉल के नवीनीकरण का काम शुरू कराया था। निर्माण में फ्लोर टाइल, दरवाजे, खिड़कियां, पुरुष-महिला शौचालय सहित पेंट का कार्य शामिल है। लाइट छत पर लगाई जानी थी जो दीवारों पर 20 से 25 लगा दी गई, जिसके कारण खिलाड़ियों को प्रैक्टिस करते समय आंखों पर रोशनी लग रही है। अलग-अलग तरह की पानी की टंकियां शौचालय की छत पर रख दी गई। बॉक्सिंग हॉल के बाहर शीशे टूटे हैं और अभी खिड़कियों को बदलना है। शेड का निर्माण अधर में है। बॉक्सिंग हॉल का तापमान नॉर्मल रहे इसके लिए एडज¨स्टग फैन नहीं लगाए गए हैं। गर्मियों के दिनों में खिलाड़ी बॉक्सिंग हॉल में प्रैक्टिस नहीं कर सकेंगे। चे¨जग रूम में टाइल्स का काम संतोषजनक नहीं किया है। शौचालयों के निर्माण में निम्न स्तरीय सामग्री के कारण ब्लॉकेज हो रही है।

पीडब्ल्यूडी बिजली ¨वग के एक्सइएन राजा नगेंद्र ने कहा कि बॉक्सिंग हॉल के निर्माण में उनकी तरफ से किसी तरह की देरी नहीं की गई है। जो बजट मंजूर किया था। उसके अनुसार बिजली का कार्य कर दिया गया है। अगर बिजली से संबंधित अन्य कार्य के आदेश जारी होंगे तो कर दिया जाएगा। वहीं, एक्सईएन राजकुमार नैन ने बताया कि इस संबंध में एसडीई से चर्चा कर समस्या का हल करवाया जाएगा। वर्जन

कार्यकारी खेल अधिकारी बबीता भारद्वाज ने बताया कि बॉक्सिंग हॉल के निर्माण के लिए पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारियों से बात की जाएगी, अगर समस्या का हल नहीं हुआ तो उपायुक्त के समक्ष समस्या को रखा जाएगा।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran