जागरण संवाददाता, करनाल : जिले में कोरोना मरीजों का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। सोमवार को 46 नए मरीज मिले हैं। अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से संदिग्ध कुल 28518 व्यक्तियों के सैंपल लिए गए। जबकि इनमें से 27298 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। अब तक 931 मामले पॉजिटिव हैं, जिनमें से 10 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। 302 एक्टिव हैं तथा 619 मरीज ठीक होकर अपने घर चले गए हैं। सिविल सर्जन डा. योगेश ने बताया कि सोमवार को 46 केस पॉजिटिव पाए गए। इनमें 11 केस एंटीजेन टेस्ट से तथा 35 केस आरटी पीसीआर से पाए गए हैं। उन्होंने जिलावासियों से कहा कि वह जरूरी कार्य के लिए ही बाहर निकलें, मास्क का प्रयोग करें। शारीरिक दूरी का ध्यान रखें और अपने आपको निरंतर सैनिटाइजिग करते रहें। सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने बताया कि जिला में अब तक विदेश से आए यात्रियों की संख्या 1447 है। जिनमें से 1372 व्यक्ति 14 दिन या इससे अधिक दिनों का सर्विलांस समय पूरा कर चुके हैं। जबकि 0 से 14 दिन वाले कांटेक्टस व यात्रियों की संख्या 2830 है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को 25 नोटिस डिस्पले किए गए। कैमला गांव में 56 वर्षीय व्यक्ति को कोरोना संक्रमण की पुष्टि

घरौंडा : कैमला गांव के एक 56 वर्षीय व्यक्ति को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। पीड़ित करनाल की शुगर मिल में कार्य करता है। जहां स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आशंकितों के कोरोना सैंपल लिए। जिसमें यह व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला। स्वास्थ्य विभाग ने पीड़ित के घर को कंटेनमेंट जोन में शामिल कर दिया है और परिवार के सात अन्य सदस्यों को भी होम क्वारंटाइन कर दिया है। सीएचसी के एचआई जसमेर सिंह के मुताबिक, कैमला गांव के 56 वर्षीय व्यक्ति को कोरोना संक्रमण पाया गया है। परिवार के सात सदस्यों को होम क्वारंटाइन किया गया है। सात कोरोना पॉजिटिव में सरकारी अस्पताल की नर्स भी शामिल

नीलोखेड़ी : स्कूल ऐरिया में एक ही परिवार के सात लोगों की कोराना रिपोर्ट पॉजिटिव आने से नगर में हड़कंप का माहौल है। जिन सात लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उसमें एक स्टाफ नर्स भी है। नर्स की नीलोखेडी के सरकारी अस्पताल में डयूटी है और स्टाफ नर्स क्वारंटाइन होने वाले दिन और उससे एक दिन पहले सरकारी अस्पताल में डयूटी पर आई थी। नर्स किस-किस के सम्पर्क में आई, इसकी जानकारी तो नही मिल सकती लेकिन सोमवार को नमूने लेने आई मोबाइल वैन ने अस्पताल में स्टाफ के सदस्यों के सैम्पल भी लिए। नर्स की सास पंजाब गई थी। 23 जुलाई को उसे हल्का बुखार होने पर सरकारी अस्पताल लाया गया। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर उसे गुरुकुल अंजनथली भेज दिया गया। परिवार के अन्य सदस्यों के सैम्पल लेने के बाद उन्हें क्वारंटाइन कर दिया गया, जिसमें यह स्टाफ नर्स भी शांमिल थी।

Edited By: Jagran