जागरण संवाददाता, करनाल: जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों से कोरोना के मामलों में कमी आई है। शुक्रवार को कोरोना के 18 मामले सामने आए जबकि 30 मरीज ठीक होकर घर गए हैं। उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने सिविल सर्जन की रिपोर्ट के अनुसार बताया कि जिले में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से संदिग्ध कुल 159506 व्यक्तियों के सैम्पल लिए गए, जबकि इनमें से 147810 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। 10819 मामले पाजिटिव है, जिनमें से 147 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। 207 एक्टिव है और 10465 मरीज ठीक होकर अपने घर चले गए हैं। शुक्रवार को 18 केस पाजिटिव पाए गए हैं, इनमें 9 केस एंटीजेन टैस्ट से तथा 9 केस आरटीपीसीआर से पाए गए हैं। उपायुक्त ने बताया कि शुक्रवार को 30 मरीज ठीक होकर अपने घर गए हैं। उपायुक्त ने जिलावासियों से कहा कि वह जरूरी कार्य के लिए ही बाहर निकलें, मास्क का प्रयोग करें, शारीरिक दूरी का ध्यान रखें और अपने आपको निरंतर सैनिटाइज करते रहें। उन्होंने स्पष्ट किया कि कोरोना वायरस के बढ़ते केसों के ²ष्टिगत प्रशासन सख्त है। जो व्यक्ति बिना मास्क के घर से बाहर निकलेगा, उसका 500 रूपये का चालान किया जाएगा। उपायुक्त ने नागरिकों से अपील की है कि उनके आसपास कोई ऐसा व्यक्ति मिले जिसकी ट्रैवल हिस्ट्री बाहर की है वह तुरंत इसकी सूचना प्रशासन को दें ताकि उसके स्वास्थ्य की जांच की जा सके और लक्षण पाए जाने पर कोविड-19 का टैस्ट किया जा सके। उन्होंने बताया कि सरकार के दिशा-निर्देशानुसार प्रशासन ने निर्णय लिया है कि जिन लोगों में कोरोना संक्रमण के लक्षण नहीं पाये जाते है, उन्हें अस्पताल में रखने की बजाए जाट धर्मशाला करनाल में स्थापित किए कोविड केयर सेंटर में रखा जाता है।

Edited By: Jagran