संवाद सहयोगी, घरौंडा : नई अनाज मंडी में धान की आवक शुरू हो गई है। सीमावर्ती गांवों से उत्तरप्रदेश के किसान 1509 किस्म की धान लेकर मंडी में पहुंच रहे हैं। इस साल मंडी में धान की फसल बीते वर्ष की तुलना में करीब दो सप्ताह पूर्व आ गई है। दो दिनों में करीब 300 क्विंटल धान मंडी में आ चुकी है। हालांकि हरियाणा के किसानों की धान सितंबर माह में मंडियों में आनी शुरू होगी। वही प्राइवेट खरीदारों ने मंडी में पहुंची यूपी की धान परचेज करनी भी शुरू कर दी है। प्रदेश सरकार के प्रतिबंध के कारण राज्य में किसानों ने धान की रोपाई 25 जून के बाद की थी। धान का फसल चक्र लगभग नब्बे दिनों का है, ऐसे में हरियाणा के किसानों की धान सितंबर महीने से मंडियों में पहुचेगी। वहीं इसके विपरीत अगस्त महीने के पहले सप्ताह में ही यूपी के किसान अपनी धान की फसल लेकर घरौंडा अनाज मंडी में आने लगे हैं। बीते दो दिनों में एक दर्जन के करीब किसान अपनी फसल लेकर आ चुके हैं। मंडी में धान की आवक की शुरुआत धान की 1509 वैरायटी के साथ हुई है। फसल लेकर आये किसानों ने बताया कि अप्रैल में गेहूं की कटाई के बाद उन्होंने 1509 की अगेती बिजाई की थी। अगेती फसल लेने से उन्हें एक फसल अधिक लेने का अवसर मिलता है। धान की कटाई के उपरांत वे अपने खेतों में आलू, तोरी या फिर दोबारा धान की बिजाई कर सकते है। मंडी में पहुंची धान में नमी की मात्रा फिलहाल अधिक है और इसकी खरीद भी प्राइवेट खरीददारों द्वारा की जा रही है। हालांकि सीजन के शुरुआती चरणों में 1509 वैरायटी का भाव 1900 से 2000 रूपये प्रति क्विटल मिल रहा है। दो दिनों से मंडी में धान की करीब तीन सौ क्विटल की आवक हुई है। यूपी के किसान 1509 वैरायटी लेकर आए हैं, फिलहाल इस वैरायटी का भाव दो हजार रूपये प्रति क्विंटल तक किसानों को मिल रहा है।

अरविंद कुमार, मंडी सुपरवाइजर

Edited By: Jagran