जागरण संवाद केंद्र, करनाल : बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि पर उनके दिखाए मार्ग राह पर चलने का संकल्प लिया गया। समाजसेवी संस्थाओं ने उनके दिखाई राह पर प्रतिबद्धता जाहिर की।

बाबा साहेब के परिनिर्वाण दिवस पर समाजसेवी हरपाल चंदेल ने कहा कि बाबा साहेब के बताए रास्ते पर चलकर संगठित रहना चाहिए। उन्होंने संगठन के सदस्यों के साथ बाबा साहेब की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किए। समाजसेवी जोगिंद्र रावर ने अपील की कि उन्हें डॉ. भीमराव अंबेडकर के बताए तीन वचन शिक्षित बनो, संघर्ष करो, संगठित रहो को अपने जीवन में प्रयोग करना चाहिए। इस अवसर पर प्रधान हरपाल चंदेल, मीडिया प्रभारी जोगिंद्र रावर, कर्मपाल चोपड़ी, बलवान नंबरदार, कर्मपाल रावर, तुहीराम सरपंच, नानूराम, वेद गुड्ढा, सुरेश दरड़, रविंद्र कैलाश, रोशन बसताड़ा, राकेश कुमार, सचिन पाल, रामधारी बड़सत, सतपाल क बोपुरा, गोपाल दास, गुरेजो, विमला देवी, विकास मधुबन व मदन सरपंच कूड़क उपस्थित रहे।

विधायक सुमिता सिह बाबा साहेब को श्रद्धांजली दी। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने जिस संविधान की रचना की थी, वह किसी पवित्र ग्रंथ से कम नहीं है बल्कि देश की अमूल्य धरोहर है। ऐसा संविधान विश्व में और कहीं नहीं है। काग्रेस पार्टी के ग्रामीण जिला अध्यक्ष सुरेंद्र नरवाल ने बाबा साहब को भावभीनी श्रद्धांजलि देते हुए उन्हे विश्व की महान शख्सियत बताया। काग्रेस के शहरी प्रधान सुरेश भारद्वाज ने कहा कि भारत देश की संस्कृति को विश्व में उच्च स्थान प्राप्त है। समय समय पर यहा पर अनेक विभूतियों ने जन्म लिया। बाबा साहब भी उन्हीं में से एक थे। उनका नाम देश में बड़े आदर से लिया जाता है।

जिला परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष अशोक मित्तल ने कहा कि देश में सामाजिक भेदभाव की खाई से देशवासियों ने लंबे समय तक गुलामी को साहा। बाबा साहेब ने संविधान के माध्यम से सभी देशवासियों को एक जुट होने तथा पिछड़ापन दूर कर ऊपर उठने का प्रावधान किया। हमें उनकी विचारधाराओं पर गर्व है। गुरु रविदास सभा के प्रधान अमर सिंह पातलान ने कहा कि उन्होंने दलित समाज को ऊपर उठाने के लिए शिक्षित बनो, संगठित रहो और संघर्ष करो का मूलमंत्र दिया था। इस अवसर जय नारायण रगा, दिलबाग रगा, ईश्वर सिंह बानखड, अमृतजोशी, सुलतानपाल, सुनीता सभ्रवाल, रमेश सैनी, सुरेश सिंहमार, दयाराम, विजय शर्मा व रघुबीर सिंह गागट उपस्थित थे।

डॉ. भीमराव अंबेडकर युवा संगठन नलीपार टिल्ला ने बाबा साहेब को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान संगठन के प्रधान जितेंद्र कुमार, सतीश कुमार, आनंद कुमार, राकेश कुमार, विनोद कुमार व अक्षय कुमार मौजूद रहे।

इंद्री संवाद सहयोगी के अनुसार

पटहेड़ा गांव स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर का परिनिर्वाण दिवस श्रद्धा के साथ मनाया गया। हिंदी प्राध्यापक अरुण कुमार ने कहा कि संविधान निर्माण ही नहीं बल्कि स्वाधीनता आंदोलन को नए आयाम देने में डॉ. अंबेडकर की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। प्रिंसिपल जयभगवान सैनी व अध्यापक रमेश दत्त ने विचार व्यक्त किए। इस मौके पर अध्यापक सतीश कुमार, हरीराम, स्नेहलता व श्यामलाल मौजूद रहे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर