जागरण संवाददाता, कैथल : नगर परिषद की तरफ से करीब दो महीने पहले रात की सफाई को लेकर लगाया गया टेंडर रद कर दिया गया था। टेंडर रद होने से 65 कर्मचारी बेरोजगार हो गए थे। नया टेंडर लगाने को लेकर कर्मचारी कई बार अधिकारियों से मिल चुके हैं। मंगलवार को सफाई कर्मचारियों ने नप एक्सईएन हिमांशु लाटका से मुलाकात की और टेंडर लगाने की मांग की। टेंडर लगाने की अनुमति लेने के लिए फाइल को निदेशालय भेजा हुआ है। दस दिन पहले निदेशालय की तरफ से टेंडर से संबंधित कुछ जानकारियां मांगी थी। नप की तरफ से वे जानकारियां नहीं दी गई हैं। सफाई कर्मचारी यूनियन नेता शिवचरण और विक्की टांक की अध्यक्षता में रात की सफाई से हटाए गए कर्मचारी एक्सईएन से मिले। उन्होंने मांग की है कि जल्द से रात की सफाई का टेंडर लगाया जाए ताकि 65 कर्मचारियों को रोजगार मिल सके। बता दें कि पहले लगाए गए टेंडर को लेकर सफाई कर्मचारी दो यूनियनों में बंट गए थे। विवाद ज्यादा होने के कारण टेंडर को रद कर दिया गया था।

खर्च होते थे करीब साढ़े छह लाख रुपये

रात की सफाई के टेंडर पर महीने में करीब साढ़े छह लाख रुपये खर्च होते थे। कर्मचारी रात को सात बजे से 11 बजे तक सफाई करते थे। जिस एरिया में डोर टू डोर कचरा उठाने वाले कर्मचारी नहीं जाते थे, वहां इन कर्मचारियों से काम करवाया जाता था। कर्मचारी छात्रावास रोड, खुराना रोड, नरवानियां बिल्डिग, ढांड रोड, अंबाला रोड, करनाल रोड बाइपास, मुख्य बाजार, रेलवे गेट, पुराना बस स्टैंड के एरिया में साफ-सफाई करते थे।

जल्द ही नया टेंडर लगाया जाएगा

नगर परिषद के एक्सईएन हिमांशु लाटका ने बताया कि रात की सफाई के टेंडर को लेकर कुछ तकनीकी कमियां हैं। जल्द ही कमियों को दूर करके नया टेंडर लगाया जाएगा।

Edited By: Jagran