संवाद सहयोगी, कलायत : कुरूक्षेत्र से लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रहे निर्मल सिंह ने हलका के कार्यकर्ताओं की बैठक ली। उन्होंने कहा कि चुनाव में जीत हार लगी रहती है, लेकिन हार के बावजूद देखने वाली बात होती है कि पार्टी व प्रत्याशी की सामान्य स्वीकारता कितनी है। वे कुरुक्षेत्र लोकसभा के मतदाताओं के लिए नए चेहरे थे उसके बावजूद भी उनको कुरुक्षेत्र लोकसभा के मतदाताओं ने मन से स्वीकार करते हुए तीन लाख से अधिक मत दिए। उन्होंने कहा कि कार्यकताओं को निराश होने की आवश्यकता नहीं है। जो तीन लाख से अधिक मतदाताओं ने अपना भरोसा दिखाया वह केवल उनको व पार्टी को नहीं बल्कि छोटे से छोटे कार्यकर्ता पर जताया गया भरोसा है। चुनाव में देश में मतदाता ने भाजपा को दिल खोल कर वोट दिया जिसका सबको सम्मान करना चाहिए। कुरुक्षेत्र लोकसभा इसमें कोई अपवाद नहीं है और यहां भी दूसरी बार मतदाता ने भाजपा पर भरोसा जताया। 2014 के चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी दो लाख 87 हजार वोट लेकर तीसरे स्थान पर रहा। इस चुनाव में कांग्रेस ने अपनी स्थिति में सुधार करते हुए तीन लाख चार हजार मत हासिल कर दूसरी स्थिति हासिल की। आंकड़े इसलिए जरूरी हैं ताकि विधानसभा चुनावों में लोकसभा चुनाव में मिली पराजय को विजय में बदल सकें। कांग्रेस नेता बॉबी मान ने कहा कि चुनाव में हार जीत एक सिक्के के दो पहलू हैं। कार्यकर्ता ही पार्टी की रीढ़ होते हैं और जिस प्रकार से सभी कार्यकर्ताओं ने मिलकर विपरीत परिस्थितियों में भी निर्मल सिंह के लिए मेहनत करी सराहानीय है। इस मौके पर अनीता ढुल बडसीकरी, धर्मबीर कौलेखां, राजेश अंबरसर, देवी राम खेड़ी, अशोक जैलदार, अनिल जैलदार, गुरुदेव, मोहन राणा, रामपाल दुमाडा, जोगेंद्र तितरम, रामकुमार राणा, रामचंद्र वाल्मीकि मौजूद थे।

--------------

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran