कैथल: मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीरवार को सभी जिला उपायुक्तों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिग के जरिये एक बैठक की, जिसमें धान की खरीद, खाद की उपलब्धता, पराली प्रबंधन, पानी निकासी व बरसात के कारण टूटी सड़कों की रिपेयर को लेकर चर्चा की गई। मुख्यमंत्री ने आदेश दिए कि धान की खरीद में किसानों को किसी तरह की कोई समस्या ना हो और ना ही फाने जलाने के मामलों में ढ़ील बरतें। रेड जोन एरिया में नोडल अधिकारी वेरिफिकेशन के बाद तुरंत चालान की कार्रवाई करें। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग 18 अक्टूबर तक सभी पंजीकृत व्यक्तिगत किसान व कस्टम हायरिग सेंटर को स्कीम के तहत देने वाले कृषि यंत्रों की वेरिफिकेशन की जाए ताकि पराली प्रबंधन में लाभ मिल सके।

उपायुक्त प्रदीप दहिया ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि जिले में खाद को लेकर किसानों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो। खाद के स्टाक का ध्यान रखा जाए और अच्छी पैदावार के लिए किसानों को एनपीके व एसएसपी खाद के प्रति जागरुक किया जाए। कृषि अधिकारी ध्यान रखें कि यहां की खाद पड़ोसी राज्यों में ना जाए, इस पर निरंतर निगरानी हो, खाद विक्रेताओं की फिजिकल वेरिफिकेशन व पोश मशीन और गोदामों में उपलब्ध खाद मिलान पर नजर रखी जाए। अगर कोई गड़बड़ी मिलती है तो उचित कार्रवाई करें। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जिले के विकास कार्यों व योजनाओं को लेकर संबंधित कमेटियों की बैठक समय-समय पर होती रहे ताकि आमजन को फायदा मिल सके। उपायुक्त प्रदीप दहिया ने बैठक में मौजूद एसडीएम संजय कुमार, विरेंद्र ढूल, नवीन कुमार, नगराधीश अमित कुमार, कृषि एवं कल्याण विभाग के उपनिदेशक डा. कर्मचंद, डीएफएससी को सीएम के निर्देशों की पालना के निर्देश दिए। इस दौरान डीडीपीओ जसविद्र सिंह, सभी विभागों के एक्सईएन, डीआइओ दीपक खुराना, डीआइपीआरओ सोनिया व अन्य मौजूद रहे।

Edited By: Jagran