जागरण संवाददाता, जींद : राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यापन परिषद (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग का स्वायत्त संस्थान) के द्वारा उत्तरी क्षेत्र के 10 राज्यों के 40 कुलपतियों की बैठक वेनिस हॉल, होटल रॉयल प्लाजा नई दिल्ली में आयोजित की गई। जिसमें मुख्यातिथि के तौर पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के अध्यक्ष प्रो. डीपी सिंह व नैक (राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद) के निदेशक प्रो. एससी शर्मा शामिल हुए। बैठक के दौरान सीआरएसयू के कुलपति प्रो. आरबी सोलंकी ने अपनी बात रखते हुए विश्वविद्यालय की उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी और विश्वविद्यालय से संबंधित कॉलेजों की स्थिति से अवगत कराया। प्रो. सोलंकी ने बताया कि जल्द ही सीआरएसयू नैक एक्रीडिऐशन आयोजित करेगा। सीआरएसयू ने 12बी रैंक प्राप्त कर लिया है। जल्द ही सीआरएसयू एवं संबद्धता कॉलेजों के लिये नैक से संबंधित कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान यूजीसी के अध्यक्ष डीपी सिंह ने बताया कि अब सभी कॉलेजों एवं विश्वविद्यालयों के लिये नैक करवाना अनिवार्य है। नई एजुकेशन पॉलिसी की रिव्यू एक महीने और बढ़ा दी गई है, जिससे एजुकेशन पॉलिसी को लेकर बेहतर इनपुट प्राप्त हो सकें। साथ ही उन्होंने जोर दिया कि विश्वविद्यालय व कॉलेजों में फैकल्टी डेवलेपमेंट कार्यक्रम, स्टूडेंट्स डेवलपमेंट प्रोग्राम, एक्सचेंज कार्यक्रमों का आयोजन किया जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने सुझाव मांगा कि नैक के पैरामीटर में और क्या बेहतर हो सकता है, जिससे शैक्षणिक संस्थानों की गुणवत्ता बेहतर हो।