संवाद सूत्र, नरवाना : कोहरे के दस्तक देते ही शुक्रवार को हिसार-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर गांव ढाकल के पास कई वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो गये। एक के बाद एक 13 कारें भिड़ती चली गई। इस दुर्घटना में कई लोगों को चोटें आई। गाड़ियों की भिड़ंत होने पर हाइवे पर लंबा जाम लग गया। दुर्घटनाग्रस्त गाड़ियों को हटाने के लिए क्रेन को बुलाया गया। पुलिस लोगों को गाड़ियों से बाहर निकाला और घायलों को नागरिक अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे गई।

हिसार-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर कोहरा ज्यादा होने के कारण गांव ढाकल के पास सड़क पर डिवाइडर के पास एक ट्रक चालक ट्रक खड़ा कर ढाबे पर चला गया। इतने में सुबह 3 बजकर 45 मिनट पर नरवाना की ओर से आ रही एक निजी बस ने खड़े ट्रक में पीछे से टक्कर दे मारी। इस टक्कर में बस आगे से क्षतिग्रस्त हो गई, लेकिन चालक व अन्य सवारियों को कोई चोटें नहीं आई। बस दुर्घटनाग्रस्त होने पर चालक व अन्य सवारियां नीचे उतर आई और उन्होंने किसी वाहन की बस के साथ टक्कर न हो, इसके लिए सड़क पर खड़े होकर आ रहे वाहन चालकों को मोबाइल की रोशनी व अन्य साधनों को रोकने का इशारा किया। जिस पर एक कार चालक ने अपनी गाड़ी रोककर कारण पूछना चाहा, तो पीछे से अन्य कार चालक ने भी पीछे से टक्कर दे मारी। इतने में देखते ही देखते 13 कारें भिड़ती चली गई। जिससे जाम की स्थिति बन गई। बस चालक जगरूप, सतकुमार, महावीर ने बताया कि कोहरा इतना ज्यादा था कि कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था। इसलिए पीछे काफी दूर जाकर पुल पर वाहनों को रुकवाया गया। नहीं तो काफी गाड़ियों को नुकसान हो सकता था।

------------------

ट्रक चालक की लापरवाही हुई दुर्घटना

निजी बस चालक जगरूप ने बताया कि ट्रक चालक ने डिवाइडर के साथ लगते ट्रक को खड़ा किया हुआ था। ट्रक के न तो डिपर जल रहे थे और न ही अन्य इंतजाम किया हुआ था। इसमें ट्रक चालक की लापरवाही दुर्घटना का कारण थी। उन्होंने बताया कि कोहरे की वजह से बस की स्पीड कम थी, नहीं तो सवारियों को काफी चोट लग सकती थी।

--------------

एक के पीछे एक गाड़ियों की होती रही टक्कर

राजबीर, महावीर, सुनील, संदीप राणा ने बताया कि जब बस की टक्कर ट्रक के साथ हो गई, तो अन्य वाहनों की टक्कर न हो। इसके लिए मोबाइल की रोशनी से वाहन रोकने की कोशिश की, तो एक वाहन के रूकते ही दूसरे वाहन चालकों ने पीछे टक्कर मारी। सभी कारों का अगला हिस्से में नुकसान पहुंचा।

----------------

पेपर देने से वंचित रह गए परीक्षार्थी

सिरसा, फतेहाबाद, बरवाला और नरवाना के काफी संख्या में परीक्षार्थियों के अंबाला और कुरूक्षेत्र में पेपर थे, जिसके लिए वे रात को ही सेंटर पर समय पर पहुंचने के लिए निकल चुके थे, लेकिन उनको क्या पता था कि जो वो पेपर देने जा रहे हैं, वो नहीं दे पाएंगे। दुर्घटना होने पर कार और बस दुर्घटनाग्रस्त होने पर परीक्षार्थी आगे नहीं जा पाये और उनको बिना पेपर दिये ही वापस घर लौटना पड़ा।

--------------

10 मीटर दूर से नहीं दिख रहे थे वाहन

शनिवार शाम को ही कोहरे ने अपना रूप दिखाना शुरू कर दिया था, जिसके बाद रात होते-होते कोहरा काफी गहराया गया और 10 मीटर दूर से भी कोई वाहन नहीं दिखाई दे रहा था। यही कारण था कि सर्दी के मौसम का पहला कोहरा में दृश्यता काफी कम रही। जिससे वाहन चालकों को कुछ भी नहीं दिखाई दे रहा था और उनके वाहन दुर्घटनाग्रस्त होने की वजह बने।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस