संवाद सूत्र, उचाना : खटकड़ टोल धरने की मंगलवार को अध्यक्षता दलबीर जुलानी ने की। सांकेतिक भूख हड़ताल पर ओमपति खटकड़, रमेश, बीरो, भानी, रामरति खटकड़ रही। भाकियू जिलाध्यक्ष आजाद पालवां ने कहा कि सरकार की तरफ से बयान आया था कि डीएपी किसानों को पुराने दामों पर ही मिलेगा। अब किसानों ने बताया कि डीएपी किसानों को बढ़े हुए दामों पर मिल रहा है। हर बार सरकार झूठ बोलती है। इस पर सरकार स्थिति जल्द स्पष्ट करे। पुराने दामों पर किसानों को डीएपी नहीं दिया गया, तो मंडियों में प्रदर्शन किए जाएंगे। पालवां ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा किए गए आह्वान पर गांव-गांव में टीमें बना कर हर घर से गेहूं आंदोलन के लिए एकत्रित करें। गांव में ट्राली लगा कर गेहूं को एकत्रित करें। हर किसी से गेहूं ले, ताकि सबको लगे कि इस आंदोलन में उनका सहयोग है। दिल्ली बॉर्डर के अलावा चार महीने 10 दिन से खटकड़ टोल पर किसान संयम, अनुशासन से धरना दे रहे हैं। किसानों की मांगों को नहीं मान रही। भाजपा सरकार को पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु के चुनावों में करारी हार देकर आइना दिखा दिया है। अब जल्द सरकार हमारी बात भी सुनेगी, तीनों कानूनों को रद करने के साथ-साथ एमएसपी पर कानून भी बनाएगी। अब किसानों की लड़ाई व्यवस्था परिवर्तन की है। सतबीर पहलवान ने कहा कि कोरोना संक्रमण की आड़ में किसानों के आंदोलन को कमजोर करने के लिए तरह-तरह के हथकंडे सरकार अपना रही है। सरकार को किसानों के मंच से चेतावनी देते हैं कि कोरोना संक्रमण की आड़ में किसी भी किसान को आंदोलन में शामिल होने से न रोका जाए। अगर ऐसा सरकार करेगी, तो इसको सहन नहीं करेंगे। जो पंजाब से किसान, मजदूर दिल्ली जाने के लिए आते हैं, गांव से किसान खटकड़ टोल पर आते हैं। अगर उनको रोका गया, तो जहां किसानों को रोका जाएगा, वहां पर ही धरना शुरू कर दिया जाएगा। इस मौके पर कामरेड रमेश, कामरेड रोहताश, कर्म ¨सह जींद, बारू फौजी, नफे ¨सह बड़ौदी, उदय राम पालवां, रणधीर चहल, जगड़ कंडेला, अमरजीत, अनीष, महीपाल, धर्मबीर सुदकैन, अनीता सुदकैन, शीला जुलानी, पनमेश्वरी मौजूद रही।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021