संवाद सूत्र, बेरी : फर्नीचर व्यापारी की मौत से जुड़े मामले में पुलिस के स्तर पर की जा रही कार्रवाई से मृतक के परिजन एवं बेरी के व्यापारी खासे नाराज हैं। इसी विषय को केंद्र में रखते हुए रविवार को अग्रवाल धर्मशाला में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता प्रधान अत्तर ¨सह ने की। काफी समय तक हुए विचार विमर्श के बाद तय किया कि मंगलवार को बाजार को बंद रखते हुए पूरी कार्यवाही पर रोष व्यक्त किया जाएगा। इसी दौरान ही गोशाला में कस्बे की बैठक बुलाते हुए रणनीति भी तैयार की जाएगी। इधर, मौके पर मौजूद रहे लोगों ने स्पष्ट करते हुए कहा कि अगर प्रशासनिक स्तर पर कार्रवाई में तेजी नहीं लाई जाती तो मजबूरन उन्हें आंदोलन को और अधिक तेज करना पड़ेगा। जिसकी जिम्मेवारी पुलिस एवं प्रशासन की होगी। चूंकि यहां पर उनके स्तर पर पहले ही जिला मुख्यालय पर पहुंचते हुए एक ज्ञापन सौंपा जा चुका है। जबकि पहले भी पुलिस के स्तर पर आश्वस्त किया गया था कि वे गंभीरता से कदम उठाते हुए आरोपितों को अतिशीघ्र काबू कर लेंगे।

गौरतलब है कि जहरीले पदार्थ का सेवन करते हुए फर्नीचर व्यापारी ने अपने सुसाइड नोट में एक ही परिवार के पांच लोगों को जिम्मेवार ठहराया था। इसके अतिरिक्त चौकी प्रभारी को भी मामले में आरोपित ठहराया गया है। जिस दिन मृतक का शव बेरी में लाया जाना था। उस दौरान यह सामने आया था कि शव को सड़क पर रखते हुए ग्रामीण जाम लगा सकते है। इधर, मौके की गंभीरता को देखते हुए पुलिस के स्तर पर सूझ बूझ से काम लिया गया। हालांकि इस कड़ी में व्यापारियों के प्रतिनिधिमंडल के अलावा बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने परिवार के साथ पहुंचते हुए सीटीएम को एक ज्ञापन सौंपा था।

इससे पूर्व व्यापारियों की इस बैठक के दौरान इस बात की भी चरचा हुई कि बाजार में तीन व्यापारियों से रंगदारी मांगी गई है। जो कि बड़ी ¨चता का विषय है। मामले को लेकर भी विस्तार पूर्वक चर्चा की गई।

बेरी बाजार के प्रधान अतर ¨सह का कहना है कि दुकानदार धर्मेन्द्र के मौत के मामले में मंगलवार को दुकानों को बंद रखने का निर्णय लिया गया है। मंगलवार को गोशाला में ही कस्बा के लोगों की एक पंचायत भी होगी। जिसमें आगामी रणनीति तय की जाएगी।

Posted By: Jagran