जागरण संवाददाता, हिसार : इंसानों की तरह फसलों में भी समय-समय पर बीमारियां लगती हैं और उनका समाधान करने के लिए डाक्टर भी होते हैं। ये डाक्टर बनते हैं चौधरी चरण ¨सह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कालेज ऑफ एग्रीकल्चर में। यहां एग्रीकल्चर में बीएससी, एमएससी और पीएचडी की पढ़ाई होती है। कालेज में कुल 14 विभाग हैं, जहां फसल के उगने से लेकर उनकी बीमारियों, कीटों, इलाज, किस्मों आदि तक विभिन्न विषयों की पढ़ाई करवाई जाती है। एग्रीकल्चर कालेज के दो सब-कालेज कौल और बावल में भी हैं। एचएयू के कैंपस कालेज में चार वर्षीय बीएससी ऑनर्स एग्रीकल्चर में कुल 124 सीटें हैं। इस कालेज में एमएससी एग्रीकल्चर, एमएससी फोरेस्ट्री, एमबीए जनरल, एमबीए एग्रीबिजनेस, और पीएचडी की पढ़ाई भी होती है। एमएससी में एडमिशन के लिए कुल 98 और पीएचडी में कुल 47 सीटें हैं। वहीं एग्रीकल्चर कालेज कौल में बीएससी एग्रीकल्चर के चार वर्षीय कोर्स में 29 सीटों और एग्रीकल्चर कालेज बावल में चार वर्षीय बीएससी एग्रीकल्चर में 25 सीटों तथा छह वर्षीय बीएससी एग्रीकल्चर कोर्स में 50 सीटों पर दाखिला होगा। कैंपस कालेज में छह वर्षीय बीएससी पिछले वर्ष ही बंद कर दी गई थी।

-------------

कल आवेदन का अंतिम दिन

विश्वविद्यालय में सभी कोर्सों में ऑनलाइन आवेदन का अंतिम दिन 21 मई है। इसके बाद बीएससी एग्रीकल्चर के चार वर्षीय कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा 9 जून को, जबकि छह वर्षीय कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा एक जुलाई को होगी। छह वर्षीय बीएससी एग्रीकल्चर में दाखिले केवल एग्रीकल्चर कालेज बावल में होंगे। इसके अलावा एग्रीकल्चर कालेज व आईसी ऑफ कालेज होम साइंस के विभिन्न एमएससी कोर्सों के लिए प्रवेश परीक्षा 9 जून को होगी। वहीं विश्वविद्यालय में होने वाले सभी पीएचडी कोर्सों के लिए भी प्रवेश परीक्षा का आयोजन एक जुलाई को किया जाएगा।

--------------

ये 14 विभाग हैं एचएयू के एग्रीकल्चर कालेज में -

- एग्रीकल्चरल इकोनॉमिक्स

- एग्रोनॉमी

- एग्रीकल्चरल मेट्रोलॉजी

- बिजनेस मैनेजमेंट

- एंटमलॉजी

- विस्तार शिक्षा एंव संचार प्रबंधन विभाग

- फोरेस्ट्री

- हार्टीकल्चर

- नीमेटोलॉजी

- जेनेटिक एंड प्लांट ब्री¨डग

- सायल साइंस

- सीड साइंस एंड टेक्नोलॉजी

- प्लांट पैथेलॉजी

- वेजिटेबल साइंस

---------------------

इन क्षेत्रों में है नौकरी के अवसर -

कोट -

सभी कोर्सों में आवेदन करने के लिए अंतिम तिथि 21 मई है। एग्रीकल्चर कोर्स करने के बाद विद्यार्थी कृषि विभाग में एडीओ, एसएमएस के अलावा सीड सर्टिफिकेशन विभाग में, क्वालिटी कंट्रोल सहित विभिन्न पदों पर सरकारी नौकरी मिल सकती है। बैंकिग क्षेत्र में एग्रीकल्चर ऑफिसर के अलावा प्राइवेट सेक्टर में फर्टिलाइज इंडस्ट्री, इंसेक्टीसाइड, पेस्टिसाइड सहित विभिन्न इंडस्ट्री में विभिन्न पदों पर नौकरी कर सकते हैं।

- डा. केएस ग्रेवाल, डीन, कालेज ऑफ एग्रीकल्चर, एचएयू हिसार।

---------

Edited By: Jagran