संवाद सहयोगी, बरवाला : बरवाला खंड के अंतर्गत आने गांव सुलखनी में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के बगल में शराब ठेका खोले जाने पर ग्रामीणों ने शुक्रवार रात करीब आठ बजे ग्रामीणों की पंचायत आयोजित की गई। जिसमें पूरे गांव के लोग शामिल नहीं हो सके, इस कारण ग्रामीणों ने आगामी पंचायत रविवार को शाम 6 बजे फिर से बुलाई गई है। ग्रामीणों का कहना है कि रविवार को फिर से होने वाली पंचायत में पूरे गांव की सहमति के बाद ही आगे का फैसला लिया जाएगा। आयोजित पंचायत में ग्रामीणों ने पंचायत में सुझाव रखे कि स्कूल के बगल में जिस शराब कारोबारी के द्वारा ठेका खोला गया है उसको हटवाने के लिए कानून की मदद ली जाएगी। ग्रामीणों ने बताया कि इस मामले को जिला प्रशासन के संज्ञान में डाला जाएगा। अगर प्रशासन की तरफ से कोई कार्रवाई होती है तो ठीक अन्यथा ग्रामीण स्वयं ठेके को बंद करवाने प्रक्रिया को तेज करेंगे।

इसलिए हो रहा ग्रामीणों का विरोध

गांव में लड़के लड़कियों का 12वीं तक स्कूल हैं उसके बगल में शराब ठेका खोल दिया गया है। स्कूल के पास ठेका खोले जाने पर ग्रामीणों में भारी नाराजगी जाहिर की है।ग्रामीणों का कहना है कि ठेके को स्कूल के पास नहीं चलने देंगे। इसे हर हाल में बंद करवाने को लेकर ही गांव के समस्त ग्रामीणों एक बार फिर से पंचायत बुलाई गई है ताकि सबकी सहमति व रजामंदी के बाद ही कानून के हिसाब से आगे की रणनीति तय की जा सके।

ठेके की आड़ में हो रहे हैं अन्य गैरकानूनी काम

इससे पहले जो ठेका खुला हुआ था उसे बंद करवा दिया गया है। अब सड़क पार करके स्कूल के बगल में ठेका खोल दिया गया है। जहां अन्य नशे के पत्ते होते हैं और गैरकानूनी काम होते हैं। यहां सीनियर सेकेंडरी स्कूल है जिसमें लड़के लड़कियां पढ़ते हैं। शराब ठेके की वजह से गांव का माहौल रोजाना खराब हो रहा है, जहां ठेका खुला हुआ है वहां बस स्टैंड,महिलाओं के लिए पानी भरने की व्यवस्था भी है, साथ में खेतों के आने जाने का रास्ता भी,ठेके के पास शराबियों का जमावड़ा लगा रहता है इस कारण महिलाओं का यहां से निकलना दुभर हो जाता है।

Edited By: Jagran