संवाद सहयोगी, नारनौंद : गांव बास आजमशाहपुर में अज्ञात युवकों ने एक घर पर पेट्रोल बम फेंककर मौके से फरार हो गए। गनीमत रही कि बम फूटा नहीं जिससे किसी प्रकार की कोई जान-माल की आहत नहीं हुई। मकान मालिक ने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने पेट्रोल बम को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। वहीं पुलिस की ढीली कार्रवाई के चलते पीड़ित परिवार में रोष है।

गांव बास आजमशाहपुर निवासी अनिल उर्फ नरेंद्र ने बताया कि वो वीरवार की रात को अपने घर पर परिजनों के साथ सोया हुआ था कि करीब दो बजे अचानक घर के पालतू कुत्ते भौंकने लगे। कुत्ते की आवाज सुनकर उसकी नींद खुल गई। जब वह बाहर जाकर देखा तो उसके घर के आंगन में एक पेट्रोल बम पड़ा हुआ था। उसने तत्परता दिखाते हुए पेट्रोल बम को घर के बाहर खाली पड़े प्लाट में डाल दिया और इसकी सूचना बास पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस केसामने ही लोगों ने पेट्रोल बम पर मिट्टी व पानी डालकर उसमें लगी आग को बुझाया।

अनिल ने मामले की लिखित शिकायत बास पुलिस को दे दी है। लेकिन 36 घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है। पुलिस की ढीली कार्रवाई के चलते 22 अप्रैल को सैकड़ों ग्रामीण जिला उपायुक्त कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करेंगे। बॉक्स

इस संबंध में थाना प्रभारी सुनील कुमार ने बताया कि मामले की शिकायत मिल चुकी है और पुलिस मामले की गहनता से जांच करने में जुटी हुई है। इस मामले में जो भी आरोपित होंगे उनको जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस