हांसी, जेएनएन। व्यापारी को अगवा कर लाखों रुपये की अवैध वसूली करने के मामले में हांसी जिला पुलिस के एसपी विरेंद्र सांगवान ने बड़ी कार्रवाई करते हुए दो पुलिस कर्मचारियों को सेवाओं से बर्खास्त कर दिया है। दोनों पुलिस कर्मचारियों पर हिसार के फ्यूचर मेकर कंपनी के इनवेस्टर को नीली बत्ती की गाड़ी में अगवा करके 15 लाख रुपये की डिमांड करने का आरोप है। आरोपित पुलिस कर्मचारियों को विजिलेंस ने अपनी जांच में दोषी पाया था। इसके बाद एसपी ने कार्रवाई की है। हालांकि यह मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है।

मामला सितंबर 2018 का है। हांसी जिला पुलिस में तैनात हेड कांस्टेबल विनोद कुमार व भरत ङ्क्षसह ने अपने दो साथियों हांसी निवासी मनीष व आनंद के साथ मिलकर हिसार के शिव कालोनी निवासी रविकांत शर्मा को 18 सितंबर की रात नीली बत्ती लगी एक बोलेरो में अगवा कर लिया था। रविकांत फ्यूचर मेकर कंपनी का निवेशक था। रविकांत शर्मा ने विजिलेंस को शिकायत देकर कहा था कि 18 सितंबर की रात नीली बत्ती लगी एक बोलेरो में दो-तीन लोग वर्दी में आए थे। उनके साथ कुछ लोग सादी वर्दी में थे।

वे घर से उसका अपहरण कर हांसी, नारनौंद, कैथल की तरफ ले गए थे। पुलिस कर्मचारियों व अन्य युवकों ने रविकांत के साथ मारपीट की थी व 15 लाख रुपये की डिमांड की थी। मारपीट कर आरोपित कह रहे थे कि तूने फ्यूचर मेकर कंपनी में बहुत रुपये कमा लिए व 15 लाख हमें दे। रविकांत ने पुलिस को बताया था कि उसने 5 लाख रुपये देने की हामी भरी थी, जिसके बाद अपहरणकर्ता उसे तितरम चौक के पास छोड़कर फरार हो गए। इसके बाद रविकांत के पास लगातार दोनों पुलिस कर्मचारियों के पैसे जमा करवाने के लिए फोन आने लगे।

रविकांत ने 19 सितंबर 2018 को उनके बताए खाते में 20 हजार रुपये जमा करवाए थे। बाकी पैसे लेने के लिए बरवाला में मनीष को भेजा था। इसी बीच रविकांत ने पुलिस में शिकायत दे दी थी। इसके बाद पुलिस ने मनीष को गिरफ्तार कर लिया था। इस मामले में बाद में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने तीन पुलिस कर्मचारियों सहित पांच व्यक्तियों को गिरफ्तार किया था।

फतेहाबाद का पुलिस कर्मचारी भी था वारदात में शामिल

फ्यूचर मेकर कंपनी के इनवेस्टर रविकांत को अगवा कर वसूली करने वालों में हांसी पुलिस के तैनात महम निवासी हेड कांस्टेबल भरत सिंह व नियाणा निवासी विनोद कुमार के साथ फतेहाबाद की दरियापुर चौकी का कांस्टेबल आनंद भी शामिल था। पुलिस कर्मचारियों के अलावा हांसी निवासी मनीष कुमार व आनंद भी व्यापारी को अगवा करने के षडयंत्र में शामिल थे। विजिलेंस ने इस मामले में जांच की थी व सभी आरोपितों को गिरफ्तार कर बुलेरो व पैसे बरामद किए थे। हालांकि चारों के खिलाफ मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है लेकिन विजिलेंस जांच के आधार पर पुलिस विभाग ने हांसी में तैनात एचसी भरत ङ्क्षसह व विनोद कुमार को बर्खास्त कर दिया है।

----जिला पुलिस में तैनात दोनों पुलिस कर्मचारियों पर लगे आरोप विजिलेंस की जांच में सही पाए गए। इसके बाद उन्हें बर्खास्त कर दिया गया है।

- विरेंद्र सांगवान, एसपी

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस