सिरसा, जेएनएन। सिरसा के कालांवाली क्षेत्र के गांव सिंहपुरा में दो युवकों ने गांव में बनी चौपाल की शेड पर खालिस्तान का झंडा फहरा दिया। पुलिस को मामले की जानकारी मिली तो तुरंत मौके पर पहुंची। छानबीन कर शरारत करने वालों की पहचान की और उन्हें काबू कर लिया। पुलिस जांच में सामने आया कि दोनों युवक दोस्त है और दोनों ने पंजाब के मोगा में स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर लगाए गए खालिस्तान के झंडों का वायरल वीडियो देखने के बाद गांव में झंडा फहराने की सोची थी।

इस मामले में कालांवाली थाना की सिंहपुरा पुलिस चौकी में दी शिकायत में इएचएसी गुरदीप सिंह ने बताया कि वह कालांवाली थाना में बतौर एसए के रूप में तैनात है। बीते दिवस वह सरकारी काम से गांव सिंहपुरा आया हुआ था। इस दौरान उसने देखा कि सिंहपुरा में बहमण रोड पर बने चौपाल के आगे बने शेड के ऊपर खालिस्तान जिंदाबाद का झंडा फहरा रहा था। झंड़े से लोगों की धार्मिक भावनाएं भड़क सकती है। खालिस्तान का झंडा फहराने से विभिन्न धर्मों के लोगों की भावनाएं आहत हुए है व शांति भंग होने की संभावना है। इएचसी गुरदीप सिंह ने बताया कि हिंदू व सिख भाइचारे में द्वेष पैदा करने के लिए गांव के ही रुपिंद्र उर्फ रिम व युद्धवीर उर्फ जोनी ने झंडा फहराया।

कालांवाली क्षेत्र के गांव सिंहपुरा में खालिस्तान का झंडा फहराए जाने का मामला पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों के भी संज्ञान में है। बताया जाता है कि मामले की सूचना गृहमंत्री अनिल विज को मिलने पर उन्होंने डीजीपी मनोज कुमार को आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिये। जिसके बाद पुलिस हरकत में आ गई और आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें काबू कर लिया। 

सिंहपुरा गांव की चौपाल के शैड पर खालिस्तान का झंडा फहराने के मामले में दो युवकों को काबू किया है। दोनों युवक दोस्त है और उन्होंने पंजाब के मोगा में खालिस्तानी झंडा फहराए जाने का वीडियो देखकर गांव में झंडा फहराने की शरारत की। दोनों युवकों से पूछताछ की जा रही है। 

- एएसआइ सुखजीत सिंह, सिंहपुरा पुलिस चौकी, कालांवाली 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस