जागरण संवाददाता, हिसार : मेयर के चुनाव को लेकर सभी की नजरें विधानसभा सत्र पर टिकी हुई हैं। हर कोई चाहता है कि मेयर के सीधे चुनाव को विधानसभा में पास किया जाए। जिससे पार्षदों के मेयर बनाने के नाम पर फैले भ्रष्टाचार को खत्म किया जा सके। वहीं दूसरी ओर विभिन्न पार्टियों के लिए विजेता उम्मीदवारों को चुनना बड़ी समस्या बना गया है। तीन विधानसभा क्षेत्रों से होने वाले मतदान में मजबूत प्रत्याशी ही जीत पाएगा। इसी कारण अभी तक मेयर पद को लेकर कुछ चु¨नदा उम्मीदवारों को छोड़ तीनों बड़ी पार्टियों से कोई नाम फाइनल नहीं किया गया है।

जहां मेयर पद के उम्मीदवारों को लेकर पार्टियां विचार-विमर्श कर रही हैं। ऐसे में चुनाव आयोग के नये आदेशों ने प्रत्याशियों की ¨चता और बढ़ा दी है। अब 20 जुलाई 2018 तक की अपडेट सूची के आधार पर निगम चुनाव होंगे। जिससे 1500 से दो हजार नये मतदाता जुड़ने की उम्मीद है। जहां पहले ही मेयर को चुनाव प्रत्याशियों के चुनौती बना हुआ है। ऐसे में दो हजार के करीब नये मतदाता जुड़ने से मेयर पद के चुनाव लड़ने वालों की परेशानियां ओर बढ़ा दी है। सूत्रों की मानें तो सितंबर के अंत में चुनावों को लेकर आचार संहिता लगती है तो मतदाता की सूची में नये और वोटर भी शामिल हो सकते हैं। इस कारण 2 लाख 28 हजार के करीब मतदाता हो जाएंगे।

..

बॉक्स :::

यह है मौजूदा स्थिति

. वार्डबंदी के अंदर 8 मई 2018 तक के मतदाताओं को शामिल किया गया है।

. 8 मई तक शहर में 2 लाख 26 हजार 200 मतदाता हैं।

. अब 20 जुलाई 2018 तक अपने वोट अपडेट करवाने वाले लोगों को लिस्ट में शामिल किया जाएगा।

. उम्मीद है कि अब दो लाख 28 हजार के करीब मतदाता की संख्या हो जाएगी।

...

बॉक्स :::

मेयर बनने के बाद विधायक बनना आसान शहर की तीनों बड़ी पार्टियों के लिए मेयर के उम्मीदवार का चयन करना विकट समस्या है। इसी वजह हिसार, बरवाला और नलवा तीनों हलके के मतदाताओं के मतों का प्रयोग होना है। मेयर बनने वाला प्रत्याशी तीनों हलकों के लोगों से वोटों के आधार पर चुना जाएगा। पांच साल तक लोगों के बीच रहकर उनके काम करवाने के बाद उसके लिए विधायक का चुनाव जीतना आसान हो जाएगा। यही वजह है कि सभी बड़ी पार्टियों के बड़े नेता मेयर पद के उम्मीदवार के चयन को लेकर गंभीरता दिखा रहे हैं। कोई नहीं चाहता कि विधायक को लेकर कोई नया नेता मैदान में उतारा जाए। लेकिन पार्टी के चुनाव चिन्ह के साथ चुनाव लड़वाने पर मेयर बनने वाले का कद बड़ा हो जाएगा। ऐसे में विधायक बनाने में मेयर का भविष्य में अहम रोल रहने वाला है।

..

कोट्स :::

20 जुलाई 2018 तक के मतदाताओं को वोटर लिस्ट में शामिल किया गया है। पहले 8 मई के आधार पर वोटर लिस्ट बनाई गई थी। मौजूदा वोटर लिस्ट में दो लाख 26 हजार 200 मतदाता हैं। नई वोटर लिस्ट बनाने का काम चल रहा है। उम्मीद है कि 1500 से दो हजार के करीब मतदाता बढ़ेंगे।

- सुरेश गोयल, एमई, नगर निगम।

Posted By: Jagran