जागरण संवाददाता, हिसार : साबह, सफाई करना तो दूर एक सप्ताह से शिकायत करने के बावजूद सीवरेज लाइन की सफाई करने तक नहीं आए कर्मचारी। जब उन्हें सीवरेज जाम की समस्या बताते है तो कहते है आज कल में करवा देंगे। वो आजकल कब आएगा इन अफसरों से पूछकर बता दीजिए। यह स्थिति वार्ड-15 में थी जहां मेयर जनस्वास्थ्य विभाग के अफसरों के साथ फील्ड का सच जानने पहुंचे थे। मेयर ने जब अफसरों को शिकायतकर्ता के सामने करते हुए जवाब तलब किया तो जिम्मेदार मूकदर्शक बनकर रह गए। इसके अलावा उनके पास कोई जवाब ही नहीं था। जब मेयर ने क्लास ली तो बोले कि आज ही मशीन लगवा देते है अभी साफ करवा देंगे यह स्थिति शहर के एक नहीं बल्कि मिलगेट से महावीर कालोनी तक के अधिकांश क्षेत्रों में बनी हुई थी। शहर की सीवरेज सफाई का दावा करने वाले अफसरों का सच उस समय सामने आ गया है जब शहर के अधिकांश सीवरेज मैनहोल जाम मिलें। निरीक्षण के दौरान मेयर गौतम नारंग के साथ पार्षद प्रीतम सैनी, भूप सिंह रोहिला और एक्सइएन एसके त्यागी अपनी टीम के साथ रहे।

-------------------

कागजों में सब ठीक, हकीकत में सड़कों पर गंदा पानी

जनस्वास्थ्य विभाग के कागजों में भले ही सब कुछ ठीक हो लेकर वास्तविकता में वार्ड-5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 13 और वार्ड-15 में अधिकांश क्षेत्रों में सीवरेज व ड्रेनेज व्यवस्था चरमराई हुई है। इन क्षेत्रों में गरीब बस्तियाें से लेकर शहर की पाश कालोनी तक शामिल है। अर्बन एस्टेट-टू में तो प्रदेश के उपमुख्यमंत्री का निवास तक है।

------------------------

स्वच्छ भारत मिशन की भी उड़ रही धज्जियां

ढाणी किशनदत्त निवासी बोले कि एक माह से सीवरेज जाम है। सुदर्शन लोहिया और मनोज कुमार ने बताया कि नालियां गोबर के कारण बंद है। हालात ये हो गए है कि शौच के लिए भी दूर दराज के क्षेत्र में जाना पड़ता है। जीवन नरक जैसा बन गया है। आज एक घंटे पहले ही नालियों में कुछ सफाई करवाई है। मेयर ने लोगों की बात सुनी और सीवरेज के गडढ़े उखड़वाए तो सच सामने आ गया। सीवरेज व्यवस्था वाकई में चरमराई हुई थी। इसके अलावा सड़क के बीच में ही मैनहोल का निर्माण करवाने के लिए गडढ़ा खोद रखा था। लोगों ने कहा कि बुजुर्ग तक इसमें गिर चुके है लेकिन कोई सुध नहीं ले रहा है।

-------------------------------

वार्ड-6 में गुरुद्वारा बाबा वीर भान जी के पास वाली गली में महिलाओं ने कहा कि यहां तो सफाई के लिए एक सप्ताह में एक बार आते है। मेयर ने तुरंत निगम स्टाफ की डयूटी लगाई कि मौके के एएसआई को यहां भेजकर उनकी सफाई की डयूटी लगाओ।

------------------

ब्रह्म ज्ञान कुटिया क्षेत्र: लोगों के घरों में बारिश का पानी घुसने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो चुका था। उन्होंने मेयर को घर के अंदर की स्थिति दिखाई और कहा कि पानी उनके बैड के ऊपर तक पहुंच गया है। फ्रीज से लेकर सोने के कपड़े सब पानी में भर गए। रात भी बैठक काटनी पड़ी। काफी प्रयासों से बारिश का पानी घर से बाहर निकाला। उन्होंने मेयर ने मांग की कि सीवरेज लाइनों की सफाई करवाए।

--------------------

इन क्षेत्रों में सरकार के प्रयासों से जनता को मिली राहत

महावीर कालोनी : महावीर कालोनी में बरसाती डिस्पोजल का नए सिरे से निर्माण होने से महावीर कालोनी क्षेत्र में जहां एक-एक सप्ताह तक जलभराव रहता था। वहां एक दो दिन में पानी निकासी होने लगी। सुमन शर्मा और श्योकंद ने बताया कि पहले कई दिनों तक बारिश और सीवरेज लाइन जाम होने से जलभराव कई दिन तक रहता था। लेकिन इस बार केवल 24 घंटें में ही पानी निकासी हो गई।

--------------------

वर्जन

शहर की सीवरेज लाइन और ड्रेनेज को दुरुस्त करवाने के लिए कार्य जारी है। एक्सइएन को कहा है कि जो भी क्षेत्र देखे और जनता ने उस समय जो समस्याएं बताई है उनका तय समय में समाधान कर मुझे रिपोर्ट सौंपें। मेरी लोगों से अपील है कि जहां भी सीवरेज, ड्रेनेज या सफाई की समस्या है तो शिकायत अवश्य करें।

- गौतम सरदाना, मेयर, हिसार।

Edited By: Manoj Kumar