हिसार/हांसी, जेएनएन। एक बाप के कंधों पर जवान बेटे का जनाजा उठाने से बड़ा कोई दुख नहीं होता और हिसार के जमावड़ी गांव निवासी रोहताश के जीवन में तो दूसरी बार इस तरह के दुखों का पहाड़ टूटा है। 7 साल पहले अपने जवान बेटे की मौत का दुख अपने सीने में लिये हुए रोहताश को उस समय एक और गहरा सदमा लगा जब उसका दूसरा पुत्र व पोता बुधवार देर सांय एक सड़क हादसे में अकाल मौत का शिकार हो गए तथा उसकी पुत्रवधू व पोती की हालत गंभीर बताई जा रही है और वे दोनों हिसार के एक निजी अस्पताल में उपचाराधीन हैं।

सदर पुलिस ने रोहताश की शिकायत पर मोटरसाइकिल को टक्कर मारने वाली स्विफ्ट कार के चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है। वहीं, इस दुखद घटना का पता चलते ही जमावड़ी गांव में मातम छा गया तथा गांव के लोग रोहताश के घर पर शोक प्रकट करने पहुंच गए।

पुलिस को दी शिकायत में जमावड़ी गांव निवासी रोहताश उर्फ लीला राम ने बताया कि उसके दो लड़के थे और छोटे लड़के सुरेंद्र की करीब 7 साल पहले मृत्यु हो चुकी है। रोहताश ने बताया कि उसका बड़ा लड़का नरेंद्र अपनी पत्नी रीना यादव, बेटे तीन वर्षीय हितेन यादव व बेटी डेढ़ वर्षीय गुंजन को मोटरसाइकिल पर बैठाकर रामनवमी पर हांसी के श्री काली देवी मंदिर में दर्शनों के लिए लाया था और दर्शन करके वे चारों मोटरसाइकिल पर सवार होकर वापिस अपने गांव जमावड़ी जा रहे थे।

शेखपुरा गांव के निकट खेल फैक्टरी के पास एक स्विफ्ट कार चालक ने मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी जिससे चारों मोटरसाइकिल सहित दूर जा गिरे। आसपास के लोगों ने चारों घायलों को अस्पताल में पहुंचाया जहां डाक्टरों ने रोहताश के पुत्र नरेंद्र व पोते हितेन यादव को मृत घोषित कर दिया तथा पुत्रवधू रीना व पोती गुंजन की हालत गंभीर होने पर उन्हें हिसार रेफर कर दिया। पुलिस ने इस संबंध में कार चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप