जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़ : खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत पन्नू पर तीखी टिप्पणी करने और बिना नाम लिए जनरैल सिंह भिंडरावाले पर निशाना साधने के बाद संयुक्त किसान माेर्चा की ओर से 15 दिनाें के लिए निलंबित किए गए रलदू सिंह मानसा पंजाब से लौट आए हैं। वे टीकरी पर भी गए। मंच से दूर रहे और सभा में किसानों के बीच बैठे। कुछ दिन पहले उनके तंबू पर रात के समय लठैतों ने हमला कर दिया था। इसमें दो किसान जख्मी हो गए थे। इनमें पंजाब के मानसा के गुरविंद्र और जसवीर शामिल हैं। दोनों किसान इस घटना के बाद अपने घर लौट गए। हमलावरों का अभी पता नहीं चल पाया है।

इस हमले से पहले रलदू मानसा पंजाब चले गए थे। कई दिन बाद वे वापस लौटे हैं। रलदू मानसा अभी संयुक्त मोर्चा के फैसले का हवाला देते हुए कोई भी सार्वजनिक बयान नहीं दे रहे हैं, मगर मोर्चा से निलंबन के बाद उनका एक वीडियो सामने आया था, इसमें वे जनरैल सिहं भिंडरावाले पर कोई टिप्पणी न करने की बात कह रहे हैं। रलदू सिंह के बयान के बाद पंजाब के किसान नेताओं ने भी मंच से जनरैल सिंह भिंडरावाले को लेकर सफाई दी थी और तर्क दिया था कि जिन लोगों की भावनाएं जुड़ी हुई हैं, उनको किसी तरह से भड़काना उचित नहीं है।

तंबू पर रात को शुरू किया पहरा

रलदू मानसा के जिस ट्राली तंबू पर हमला हुआ, वह सेक्टर-नौ के सामुदायिक केंद्र के पास है। उस हमले के बाद यहां पर अब रात को रोजाना पहरा शुरू कर दिया गया है। ताकि दोबारा इस तरह की कोई घटना न हो। शुक्रवार को यहां रलदू मानसा भी मौजूद रहे। वे इस मामले पर अभी कुछ नहीं बोले हैं। बाद में टीकरी बार्डर चले गए।

Edited By: Manoj Kumar