हिसार, जागरण संवाददाता। हिसार के गवर्नमेंट पीजी कालेज में बीते बुधवार को फर्जी पुलिसकर्मी बनकर घुसे युवक को शुक्रवार को दो दिन के रिमांड के बाद अदालत में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। रिमांड में आरोपित बोला कि वह पिछले करीब चार महीने से वर्दी पहन कर सिपाही बनकर घुमता था। इस दौरान बस और आटो में सफर करता रहा था सफर के दौरान रौब झाड़ता था। 21 वर्षीय यह युवक अविवाहित है।

स्वजनों ने बताया सनकीपन

मामले में इसके स्वजनों से भी बातचीत की गई थी। बताया जा रहा है कि युवक में बचपना और सनकीपन लग रहा है। जिसके कारण यह युवक ऐसा कर रहा था। गौरतलब है कि यह युवक हरियाणा पुलिस का लोगो लगी वर्दी पहनकर फर्जी सिपाही बनकर गवर्मेंट कालेज में घुुस गया था। वहां लड़कियों के आइकार्ड चेक करने लगा था। शक होने पर कालेज प्रशासन ने पुलिस को सूचना दे दी। जिसके बाद थाना सिविल लाइन की पुलिस टीम ने हरियाणा पुलिस की वर्दी पहने युवक को कालेज के पिछले गेट के पास मधुबन पार्क के पास से गिरफ्तार कर लिया था।

निजी फायदे के लिए डाली पुलिस की वर्दी

प्रारंभिक पूछताछ में आरोपित कभी कह रहा था कि वह अपनी नाराज प्रेमिका को मनाने के लिए पुलिस की वर्दी पहनकर पहुंचा था, तो कभी उसने कहा था कि वह पंजाब पुलिस का मुखबिर रहा है तो कभी पुलिस को कहता है कि वह हवलदार बनने की तैयारी में है। पूछताछ में आरोपित ने यह भी बताया कि वह अपने निजी फ़ायदे के लिए नकली पुलिस वाला बन कर घूमता है।

कैथल से आइकार्ड बनवाया, जींद से बनवाई वर्दी

रिमांड में आरोपित दीपक ने बताया कि उसने चार महीने पहले कैथल में बस स्टेंड के नजदीक एक दुकान से 200 रुपये में नकली आइकार्ड बनवाया था। पुलिस ने दुकान पर छापा मारा तो आरोपित फरार मिला। जबकि जींद के एक टेलर से पुलिस वर्दी सिलवाई थी। गौरतलब है कि पुलिस ने आरोपित से नकली आइकार्ड, ट्रैक सूट, वर्दी, नेमप्लेट बरामद की थी।

Edited By: Naveen Dalal