हिसार, जेएनएन। एक तरफ जहां सीएए यानि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कुछ लोग विरोध कर रहे हैं। वहीं लोग इसके समर्थन में भी हैं। विश्व हिंदू परिषद,अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद व बजरंग दल हिसार ने CAA के समर्थन में तिरंगा यात्रा का आयोजन किया। जो पुराना गवर्नमेंट कॉलेज मैदान से पारिजात चौक,नागोरी गेट, मोती बाजार, गांधी चौक, आर्य बाजार, राजगुरु मार्केट, इंदिरा मार्किट, डोगरान बाजार से होते हुए वीर हकीकत राय पार्क में समापन हुआ।

जहां नागरिकता संशोधन कानून के बारे में जानकारी देते हुए एबीवीपी के प्रदेश मंत्री सुमित जागलान ने  संदेश दिया कि यह कानून देश हित मे हैं, यह कानून नागरिकता देनेवाला कानून है न कि किसी कि नागरिकता लेने वाला। किसी के बहकावे में न आकर सभी देशवासी सद्भाव से रहें। यात्रा में विद्यार्थियों व अन्य नागरिकों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।  इस दौरान हिसार की सड़कें भारत माता की जय, वंदे मातरम, वी सपोर्ट सीएए के नारों से गूंज उठी।

उन्होंने कहा कि 1950 में दोनों देशों के तत्कालीन प्रधानमंत्रियों के बीच नेहरू लियाकत समझौता हुआ। इस समझौते के तहत दोनों देशों की सरकारों को अपने अपने धार्मिक अल्पसंख्यक नागरिकों के हितों की रक्षा करने का वचन दिया था। परन्तु जनसंख्या के आंकड़े बताते हैं की पाकिस्तान व बांग्लादेश उस समझौते के आधार पर अपने अल्पसंख्यको की रक्षा करने में विफल हुए ।

भारत की संस्कृति आदिकाल से ही सर्व समावेशी रही है और हम वसुधैव कुटुंबकम का हमेशा से ही मन ,कर्म और वचन से पालन करते रहे हैं। जब हमारे पड़ोसी देशों ने खुद को इस्लामिक राष्ट्र घोषित किया।  वहां के धार्मिक अल्पसंख्यक नागरिकों ने उत्पीड़न से तंग आकर भारत में आकर शरण ली तो हमारी सरकार व भारत के हर नागरिक का दायित्व बनता है की वह उन पीड़ित नागरिकों के मानवीय अधिकारों की ना केवल रक्षा करें बल्कि उन्हें सम्मान से जीने का अवसर भी प्रदान करें।

आज हम सब लोगों को यह समझना और सभी को यह समझाना भी जरूरी है की नागरिकता संशोधन अधिनियम संविधान की मूल भावना की पूर्णतया रक्षा करने वाला अधिनियम है, ना की संविधान की मूल भावना के विपरीत भारत देश के किसी भी नागरिक के विरुद्ध किसी  भी तरह से भेदभाव करने वाला कोई कानून।

जैसा कि भ्रम फैलाया जा रहा है कि इस एक्ट के आने के बाद भारत से भारत के नागरिक मुसलमानों को भगा दिया जाएगा, हमें तथ्य और तर्कों से उन्हें यह भरोसा दिलाना बहुत जरूरी है कि इस अधिनियम से देश के किसी भी नागरिक को डरने की जरूरत नहीं है और उन्हें विपक्ष के इस बहकावे में आने की भी आवश्यकता नहीं है कि नागरिकता संशोधन अधिनियम आने के बाद भारत के मुसलमानों की नागरिकता को कोई खतरा नहीं है। इस दौरान डॉ राजेन्द्र जी (विहिप जिला अध्यक्ष), जितेंद्र जी सोनी (विहिप जिला मंत्री),संजीव चौहान(सह विभाग संयोजक बजरंग दल), अमर जी (जिला संयोजक बजरंग दल), राजीव जी (जिला सत्संग प्रमुख विहिप), परवीन कालवाश,योगेश,गोविंद,रमन विकाश कैमरी, सुशील वधवा ,राहुल, हरिराम, संतोष शास्त्री, रविन्द्र, हरिसिंह, मदन कैमरी सहित अन्य मौजूद रहे।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस