जागरण संवाददाता, हिसार

बिजली निगम की ओर से उपभोक्ताओं से वसूली जा रही एसीडी (एडवांस कंजप्शन डिपोजिट) के खिलाफ सेक्टरवासियों ने एक बार फिर विरोध शुरू कर दिया है। पीएलए सेक्टर वासियों ने पार्क में बुधवार शाम को आपात मीटिग का आयोजन किया गया। इस दौरान मंथन के बाद फैसला लिया गया कि यदि जल्द ही ये फैसला वापस नहीं लिया गया तो सेक्टरवासी जल्द ही धरना-प्रदर्शन करेंगे। जरूरत पड़ी तो भूख हड़ताल भी करेंगे।

पीएलए सेक्टर स्थित तिकोना पार्क में आयोजित मीटिग में सेक्टर प्रधान सतपाल ठाकुर ने कहा कि किसी भी प्रकार से डरने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि जब तक हरियाणा सरकार द्वारा बिजली उपभोक्ताओं के ऊपर लगाया गया एसीडी वाला काला कानून को हम सहन नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि पांच महीने पहले भारत सरकार किसानों पर तीन कृषि काले कानून बनाने का काम किया गया था। इसका नमूना किसानों ने भारत सरकार को सुबूत के तौर पर दिखा दिया है कि हमारा किसान भाई एक है एक था एक ही रहेगा। उन्होंने मांग की कि इस एसीडी वाले काले कानून को तुरंत वापस लेकर बिजली उपभोक्ताओं को राहत की सांस देने का कार्य करें अन्यथा हम शहरवासी भी हमारे किसान भाइयों की तरह हर चौक के ऊपर धरना प्रदर्शन करने पर मजबूर हो जाएंगे। इस बैठक में निर्णय लिया गया कि जब तक हरियाणा सरकार बिजली उपभोक्ताओं पर लगाए गए नाजायज एसीडी को तुरंत वापस नहीं लेती है तो आगामी दिनों में सभी शहरवासी एवं सेक्टर वासी एकजुट होकर भूख हड़ताल करने पर मजबूर हो जाएंगे। इस दौरान जय भगवान नेहरा, रविद्र कुमार शर्मा, महेंद्र कुमार खन्ना, युगल किशोर शर्मा, जितेंद्र कुमार, नीरज सेतिया, डॉ. रघुवीर सिंह सत्यपाल, सुलोचना, घनश्याम, जयपाल, राजपाल, बिरखा राम, महेंद्र, बलदेव राज, नरेश कुमार उपस्थित थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप