हिसार [मनोज कौशिक] बीते कुछ समय से बॉलीवुड फिल्‍मों और सीरियलों में हरियाणवी बोली का तड़का खूब लग रहा है। महज फिल्‍मों में ही नहीं बल्कि गानों और रैप में भी हरियाणवी लहजा सुनने को मिलता हैं। मगर अब बॉलीवुड में हरियाणवी बोली ही नहीं बल्कि हरियाणवी युवा कलाकर भी छाने को तैयार हैं। ऐसा नहीं है कि ऐसा पहली बार हो रहा है, लेकिन अब युवा कलाकार महज अभिनय ही नहीं बल्कि निर्देशन से लेकर अन्‍य चीजों में भी फिल्‍मी बारिकियों को सीख रहे हैं। पहली बार एकल ट्रैवलिंग थीम पर बनी द विंड्स (हवाएं) फिल्‍म में रोहतक के भवेश कुमार ने शानदार अभिनय किया है। फिल्‍म के प्रोड्यूसर जोगिंदर और निर्देशक योगेश वत्‍स ने बताया फिल्‍म फरवरी के वेलेनटाइंस सप्‍ताह में रिलीज होने जा रही है। प्रोड्यूसर जोगिंदर इससे पहले भी प से प्‍यार, फ से फरार फिल्‍म बना चुके हैं। वहीं अब वो अन्‍य फिल्‍मों पर काम कर रहे हैं।

मगर इस फिल्‍म की खास बात ये है कि फिल्‍म के हीरो भवेश महज 18 साल के हैं और अभिनय में माहिर हैं। वहीं फिल्‍म के फिल्म के प्रोड्यूसर डॉ जोगिंदर सिंह रोहतक तो निर्देशक योगेश वत्‍स रेवाड़ी से ही हैं। रोहतक के सुपवा में पहले बैच के पासआउट फिल्‍म निर्देशक योगेश वत्‍स और प्रोड्यूसर जोगिंदर बॉलीवुड में हरियाणा की अलग पहचान बनाने चाहते हैं और इसकी शुरुआत भी हो चुकी है। इस फिल्‍म की अभिनेत्री ईस्टर नोरोन्हा, मशहूर अभिनेता किरण कुमार और साहनी परीक्षित भी फिल्‍म की रीलीज को लेकर काफी उत्‍साहित हैं।

जब हीरो बन गए डिस्‍कस थ्रो खिलाड़ी

द विंड्स हवाएं फिल्‍म के हीरो भवेश कुमार नेशनल लेवल डिस्कस थ्रो के खिलाड़ी है। मगर खिलाड़ी से उनके हीरो बनने की कहानी भी रोचक है। वे रोहतक के स्पोर्ट्स स्टेडियम में प्रैक्टिस के दौरान अक्सर राजकीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान में निर्देशक योगेश वत्स के साथ बैठकर घंटों सिनेमा पर बातचीत करते थे। योगेश उस दौरान हवाएं की पटकथा लिख रहे थे, भवेश से मिलने के बाद 4 सिनेमा के प्रति उसके जुनून को देखते हुए योगेश ने उसी दौरान सोच लिया था की हवाएं के लिए भवेश कुमार से अच्छा अभिनेता नहीं मिल सकता। इसके बाद भवेश ने हवाएं फिल्‍म की शूटिंग शुरू की।

खुद को जानने और समझने की कहानी है 'हवाएं'

हवाएं फिल्‍म निर्देशक योगेश वत्‍स और प्रोड्यूसर डॉ. जोगिंदर सिंह ने बताया कि यह फिल्‍म यात्रा पर बनी है। जिसमें एक युवा भारत भ्रमण पर निकलता है आगे बढ़ने के साथ राह में मिलने वाले लोग और साथ घटने वाली घटनाएं एक नई सोच को जन्‍म देती है। फिल्‍म करीब 100 लोकेशन पर शूट हुई है। योगेश वत्‍स ने बताया कि स्पोर्ट्स बैकग्राउंड होने के के कारण देश के विभिन्न क्लाइमेट्स में शूटिंग के दौरान भवेश ने बहुत ही सहजता के साथ लद्दाख के माइनस 20 डिग्री टेंपरेचर से लेकर राजस्थान के गर्म हवाओं में तो गोवा की भारी बारिश के बीच भी उम्दा किस्म का अभिनय किया है। भवेश कुमार बॉलीवुड का पहला ऐसा अभिनेता है जो 18 साल की उम्र में 6 फुट 6 इंच हाइट का है और युवाओं में अपनी छाप छोड़ रहा है।

फिल्म से जुड़े लगभग कलाकार और टेक्निशियंस रोहतक के सुपवा से पासआउट

फिल्‍म निर्देशक योगेश वत्‍स के अलावा फिल्म के सिनेमैटोग्राफी सचिन यदुवंशी व  बिल्लू पोल, अंकित मराठा, मनीष कुमार, संजय भारद्वाज, प्रिंस कुमार, गिरीश कुमार, बिबांशु, कृपाल संधु, अमित सैन सभी फिल्म संस्थान के पास आउट स्टूडेंट्स हैं। रोहतक फिल्म एंड टेलीविजन संस्थान बनने के बाद पासआउट विद्यार्थियों द्वारा बनाई गई पहली बॉलीवुड फ़िल्म है। योगेश वत्‍स इससे पहले सुपवा की पढ़ाई के दौरान फौजी के जीवन को दर्शाती 'नंगे पांव के निशान' शॉर्ट फिल्‍म भी बना चुके हैं। इस फिल्‍म को आइडीपीए अवार्ड और रसिया के किनो प्रोबा फिल्‍म फे‍स्‍टीवल में अवार्ड जीत चुकी है। योगेश का कहना है कि अब वो भविष्‍य में हरियाणवी फिल्‍मों को लेकर भी काम करेंगे।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस