जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़: तीन कृषि कानूनों की वापसी के बाद एमएसपी व अन्य मांगों को लेकर सरकार व किसानों के बीच चल रहा मामला वीरवार को सुलझ सकता है। वीरवार दोपहर बाद संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से आंदोलन समाप्ति की घोषणा की जा सकती है। हालांकि अभी भी बाहरी तौर पर कई किसान नेता एमएसपी व किसानों पर दर्ज मुकदमे की मांग पूरी होने आंदोलन खत्म न करने की बात कह रहे हैं लेकिन आंदोलन में सक्रिय तौर पर भागीदारी निभा रहे कुछ बड़े नेताओं की ओर से आंदोलन खत्म करने के संकेत दिए जा रहे हैं।

ऐसे में अगर वीरवार को आंदाेलन खत्म होता है तो टीकरी बार्डर भी खुल जाएगा। साथ ही इसके आसपास के जितने भी रास्ते बंद हैं वो भी दिल्ली आवागमन के लिए खुल जाएंगे। इससे एक साल ज्यादा समय से बेपटरी हुई व्यापार पटरी पर आ जाएगा और यहां के उद्यमियों, व्यापारियों व आमजन को काफी फायदा होगा। बहादुरगढ़ में व्यापार को पंख लग जाएंगे। इसी उम्मीद में करोड़ों का नुकसान झेल चुके उद्यमी भी वीरवार दोपहर आंदोलन खत्म होने की घोषणा का इंतजार कर रहे हैं।

किसान नेता जोगेंद्र उगराहा का कहना है कि एमएसपी पर उनकी लड़ाइ जारी रहेगी। इसके लिए बार्डरों पर आंदोलन की जरूरत नहीं। पूरे देश के किसान संगठन एमएसपी की लड़ाई के लिए एकजुट होकर कोई भी आंदोलन चला सकते हैं। मगर किसानों पर दर्ज केसों को सरकार को हर हाल में वापस लेना होगा। तब तक वे आंदोलन खत्म नहीं कर सकते। हमारी मांगों काे लेकर कमेटी में शामिल नेताओं की सरकार के साथ कुछ सहमति हुई है। वह लिखित तौर पर मिलने के बाद वीरवार को 12 बजे बैठक होगी, जिसमें कुछ फैसला लिया जा सकता है। एक साल से भी ज्‍यादा समय से चल रहा आंदोलन खत्‍म होगा तो रास्‍ते साफ हो जाएंगे। अभी टिकरी बार्डर पर केवल ढाई-ढाई फीट का ही रास्‍ता दिया हुआ है।

Edited By: Manoj Kumar