जागरण संवाददाता, हिसार। हिसार व सिरसा जिले के स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त पीएनडीटी की टीम ने सोमवार को पंजाब के मोगा में भ्रूण लिंग जांच का पर्दाफाश किया है। यह लिंग जांच मोगा के ही एक निजी अस्पताल में की गई थी। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके से महिला दलाल व उसके सहयोगी टैक्सी चालक को पकड़ा है। उन दोनों से 38 हजार रुपये की रिकवरी की गई है।

इसकी सूचना पीएनडीटी की टीम ने संबंधित विभाग और थाना पुलिस को दी है। अब निजी अस्पताल की अल्ट्रासाउंड मशीन को सील कर आगामी जांच की जाएगी कि महिला दलाल का क्या लिंक है। हालांकि अस्पताल में रिकार्ड ठीक मिला है।

हिसार से पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डिप्टी सीएमओ डा. प्रभुदयाल, डा. कामिद माेंगा, सहायक अंकित व डाटा आपरेटर और सिरसा से पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डा. दीपक, डा. अवतार सहित अन्य मौजूद रहे। आरोपित महिला दलाल मनदीप कौर मोगा शहर की रहने वाली है और टैक्सी चालक पवन वहीं के गांव कोकरीकलां का रहने वाला है। अभी दोनों से पूछताछ जारी है।

यह है मामला

दरअसल सिरसा की स्वास्थ्य विभाग की टीम को पंजाब के मोगा में भ्रूण लिंग जांच की सूचना मिली थी। ऐसे में सिरसा व हिसार की पीएनडीटी टीम को छापेमारी के लिए भेजा गया। सोमवार पौने 2 बजे बाेगस ग्राहक को महिला दलाल के पास भेजा। महिला दलाल मनदीप कौर व टैक्सी चालक पवन मोगा बस अड्डा से गाड़ी में बैठाकर कटारिया आयुवेर्दिक अस्पताल में लेकर गए।

वहां पर चिकित्सक ने बिना मरीज को देखे ओपीडी पर्ची पर अल्ट्रासाउंड लिख दिया। इसके बाद महिला दलाल व टैक्सी चालक बोगस ग्राहक को सवेरा अस्पताल में लेकर गई। वहां पर चिकित्सक ने सवा पांच बजे महिला का अल्ट्रासाउंड किया। उसके बाद महिला दलाल ने उस अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट को पवन के पास व्हाट्सप पर भेजा और पूछा कि लड़का है या लड़की। पवन ने बताया कि लड़का है, इससे पार्टी लो।

जब महिला दलाल ने बोगस ग्राहक से पार्टी की मांग तो विभाग की टीम छापा मारने अस्पताल पहुंची। पवन भी वहां पहुंच गया। पीएनडीटी की टीम ने महिला दलाल व टैक्सी चालक दोनों को पकड़ लिया। मगर पवन को वरना गाड़ी से छोड़ने आया युवक फरार हो गया। पुलिस इसकी जांच में जुटी है।

Edited By: Manoj Kumar