जागरण संवाददाता, हिसार : करनाल में 12 अप्रैल को आइटीआइ में पुलिस द्वारा किए गए लाठीचार्ज की उच्चस्तरीय जांच करवाने और पुलिस अधीक्षक करनाल का तबादला करने की मांग को लेकर कौशल विकास एवं औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के कर्मचारियों ने पारिजात चौक से नागोरी गेट तक कैंडल मार्च निकाला। कैंडल मार्च की अध्यक्षता सर्व आइटीआइ अनुबंध-अनुदेशक संघ, हरियाणा के प्रधान सतीश न्यौल ने की।

प्रदर्शनकारी आइटीआइ कर्मचारियों ने कहा कि 12 अप्रैल को करनाल पुलिस द्वारा बाबू मूलचंद जैन राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में जबरन घुसकर विद्यार्थियों, स्टाफ सदस्यों व प्रधानाचार्य पर लाठीचार्ज करके अशोभनीय कार्य किया है। इस प्रकरण के द्वारा पुलिस कर्मचारियों ने गुरु पद की गरिमा को खंडित करने का काम किया है। इस प्रकार की घटना हरियाणा के इतिहास में कभी भी नहीं हुई। प्रकरण को लेकर पुलिस अधीक्षक करनाल ने सीसीटीवी कैमरे की फुटेज व डीवीआर अभी तक जांच कमेटी को उपलब्ध नहीं करवाई है, जिससे उनकी मानसिकता का पता चलता है। इस मामले की उच्च स्तरीय न्यायिक जांच करवाई जाए। आइटीआइ संस्थान से पुलिस द्वारा उठाई गई डीवीआर उपलब्ध करवाई जाए और डीवीआर को उठा कर ले जाने वाले कर्मचारियों में मुकदमा दर्ज किया जाए। कैंडल मार्च में सर्व आइटीआइ अनुबंध-अनुदेशक संघ के प्रदेश प्रेस प्रवक्ता मोहन सुथार, सर्व कर्मचारी संघ के जिला प्रधान सुरेंदर मान, जिला सह सचिव नरेश गौतम, पब्लिक हेल्थ ब्रांच प्रधान रमेश आहुजा, चतुर्थ श्रेणी जिला सचिव रामफल शिकारपुर, ब्लॉक सचिव हिसार रमेश शर्मा, ब्लॉक प्रधान आदमपुर रामसूरत व पब्लिक हैल्थ सचिव आभेराम फौजी सहित अनेक आदि पदाधिकारी उपस्थित रहे

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस