हिसार [पवन सिरोवा] त्योहारी सीजन में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की टीम हिसार पहुंची। सीपीसीबी की टीम ने दो गांवों में ईंट भट्ठों के सैंपल भरे। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश पर सीपीसीबी की टीम ने हिसार जिले के दो गांव मंगाली और कनौह में ईंट भट्ठों की मॉनिटरिंग की।

हरियाणा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) की हिसार क्षेत्रीय टीम के साथ सीपीसीबी की टीमों ने संयुक्त रूप से मॉनिटङ्क्षरग का कार्य किया। टीमों ने गांव मंगाली और गांव कनौह में तीन-तीन सैंपल लिए है। दो दिन की कार्रवाई के बाद सीपीसीबी की टीम वापस लौट गई।

पर्यावरण बचाव को लेकर देश में एनजीटी सख्त रुख अपना रही है। इसी कड़ी में अधिक प्रदूषण फैलाने वाले भ_ों की जांच के लिए एनजीटी से सीपीसीबी को दिशा निर्देश दिए हुए थे। उसी कड़ी में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के दो सीनियर अधिकारियों के नेतृत्व में 23 अक्टूबर को दिल्ली से टीम हिसार पहुंची। टीम ने 23 अक्टूबर और 24 अक्टूबर को हिसार जिले दो ईंट भ_ों की मॉनिटङ्क्षरग की। मॉनिटङ्क्षरग के दौरान टीम ने इन भ_ों में लगी जिगजैग तकनीक की जांच की। जिसमें देखा की ये भ_े कितना पॉल्यूशन कर रहे हैं। वह मानकों पर कितना खरा है। इसके बाद टीम ने तैयार की रिपोर्ट को गोपनीय रखते हुए एकजुट किया। डाटा टीम अपने साथ ले गई।

हिसार मंडल में 573 ईंट भट्ठे, 120 को पीसीबी करवा चुकी बंद

हिसार मंडल के अंतर्गत हिसार, सिरसा और फतेहाबाद जिले शामिल हैं। इन तीन जिलों में 573 ईंट भट्ठे हैं, जिसमें से 149 नियमानुसार जिगजैग तकनीक एडोप्ट कर चुके हैं। जबकि 304 ऐसे है जिनमें अधिकांश जिगजैग अपना चुके हैं, लेकिन कागजी औपचारिकताएं पूरी कर रही हैं जबकि कई प्रोसेस में है। 120 ईंट भ_ें ऐसे हैं, जिन्होंने जिगजैग तकनीकी नहीं अपनाने से पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने इन भ_ों को बंद कर दिया। इसके अलावा अधिक पॉल्यूशन करने वालें ईंट भ_ों को पीसीबी की टीम भी समय समय पर दिशा निर्देश देती रही है और जिन्होंने आदेशों की पालना नहीं की तो उन पर कार्रवाई भी की है।

जिला का नाम   कुल भट्ठे       जिगजैग तकनीक अपनाई        जिगजैग के प्रोसेस में     पीसीबी ने बंद किए

हिसार                  279               71                142                66

फतेहाबाद             89                 29                31                29

सिरसा                 205                49                131                25

कुल                    573              149                304                120

हरियाणा के बाद राजस्थान में टीम करेगी सैंपलिंग

प्रदेश में बढ़ते वायु प्रदूषण की रोकथाम के लिए सीपीसीबी का चाबुक अधिक प्रदूषण फैलाने वाले ईंट भट्ठों पर चल सकता है। प्रदेश में लिए गए सैंपल फेल हुए तो ये भट्ठे बंद करने की कार्रवाई हो सकती है। क्षेत्रीय अधिकारी ने राकेश भौंसले ने कहा कि हरियाणा में हिसार के गांव मंगाली व कनौह के बाद सीपीसीबी की टीम राजस्थान में सैंपल भरेगी। हिसार में सभी जिगजैग तकनीक अपना चुके हैं जबकि राजस्थान में आज भी बहुत से भट्ठों के बिना जिगजैग तकनीक एडोप्ट किए चल रहे हैं। ऐसे में अब टीम राजस्थान में सैंपल भरेगी।

---एनजीटी के आदेश पर सीपीसीबी की टीम ने 23 व 24 अक्टूबर को जिले में ईंट भट्ठों की मॉनिटरिंग की। इसमें गांव मंगाली और कनौह में ईंट भट्ठों से तीन-तीन सैंपल भरे हैं। इसमें हमारी टीम का भी सहयोग लिया गया था। अब सीपीसीबी की टीम राजस्थान में सैंपल भरेगी।

- राकेश भौंसले, क्षेत्रीय अधिकारी, पीसीबी, हिसार।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस