-जहर देकर हत्या की आशंका, विसरा जांच के लिए मधुबन लैब भेजा

-चार पेज का सुसाइड नोट और एक मोबाइल बरामद

जागरण संवाददाता, हिसार: जिले के बुढ़ाखेड़ा गांव में आनर किलिग मामले में उकलाना थाना पुलिस ने वीरवार को सनियाणा निवासी विकास के शव का हिसार सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाया। शव का विसरा जांच के लिए करनाल की मधुबन लैब में भिजवाया गया है।

उकलाना थाना प्रभारी मोहर सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद खुलासा होगा कि राजू की मौत कैसे हुई। हालांकि पुलिस प्राथमिक जांच में इसे जहर निगलने से मौत मान रही है। पुलिस को विकास की जुराबों से चार पेज का सुसाइड नोट मिला है। जिसमें एक युवती के साथ प्यार करने और शादी करने की इच्छा रखने का जिक्र किया गया है। सुसाइड नोट में लिखा है कि अगर उसकी शादी नहीं हुई तो वह सुसाइड कर लेगा। पुलिस यह जांच कर रही है, कि यह सुसाइड नोट विकास ने लिखा है या किसी और ने। सुसाइड नोट को भी जांच के लिए भिजवाया गया है। मोहर सिंह ने बताया कि जिस खेत में विकास का शव मिला था, वहां से करीब 100 मीटर दूरी पर खेत में बने कमरे की छत से विकास का फोन भी बरामद हुआ है। गौरतलब है कि बुधवार को बुढ़ाखेड़ा की ढाणियों में फतेहाबाद जिले के सनियाणा गांव निवासी राजू का शव ढाणियों में मिला था। मृतक विकास के भाई विक्रांत ने आनर किलिग का आरोप लगाते हुए युवती के स्वजनों पर हत्या का केस दर्ज करवाया था। विक्रात उर्फ विक्की ने पुलिस को बताया था कि विकास उग्रसेन के पास काम करता था। वहां उग्रसेन के परिवार से एक लड़की से उसकी बातचीत हुई थी। दोनों शादी करना चाहते थे। ये बात लड़की के घरवालों को पता चल गई। इस दौरान राजू 10-12 दिन से घर नहीं आया था। बुधवार सुबह राजू का शव खेत में मिला था। विक्रांत ने उग्रसेन बिश्नोई, उसके भाई बंसी व लड़की के पिता राधेश्याम व राधेश्याम के बेटे पर हत्या करके शव को नरमा के खेत में फेंकने का आरोप लगाया था। पुलिस ने हत्या सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया था।

Edited By: Jagran