जागरण संवाददाता, हिसार। कोरोना के मामलों में हिसार प्रदेश में रिकवरी रेट में संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर बना हुआ है जबकि मौत के मामलों में अभी भी नंबर वन पर है। गौरतलब है कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत 25 दिसंबर से हो चुकी है तब से लेकर अब तक हिसार में कोरोना से चार मौतें हो चुकी हैं। वही अब तक कुल 3564 संक्रमित मिल चुके हैं। जिनमें से 1710 एक्टिव है और 1865 स्वस्थ हुए हैं। जिससे रिकवरी रेट 95.04 है। सिरसा का रिकवरी रेट भी हिसार के बराबर है। रिकवरी रेट के मामले में पहले स्थान पर महेंद्रगढ़ बना हुआ है यहां का रिकवरी रेट 97.09 प्रतिशत है। हालांकि कोरोना के सर्वाधिक मामलों में गुरुग्राम 211783 मामलों के साथ सबसे आगे है।

हिसार में कोरोना के 54712 मामले मिल चुके हैं। हिसार में सर्वाधिक कोरोना के मामले दूसरी लहर में मिले हैं। दूसरी लहर में ही कोरोना से सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं। हिसार में कोरोना की पहली लहर में 327, दूसरी में 814 और तीसरी लहर में 4 मौतें हो चुकी हैं। तीसरी लहर की अपेक्षा पहली और दूसरी लहर ने अधिक प्रभावित किया है। सर्वाधिक बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हुई है। हालांकि उन्हें आनलाइन पढ़ाया जा रहा है लेकिन आफलाइन कक्षाएं नियमित रूप से न लगने के कारण बच्चों के बौद्धिक स्तर में बदलाव आए हैं। गौरतलब है कि कोरोना को रोकने के लिए हिसार में 19 जनवरी 2021 से वैक्सीनेशन शुरू हुआ था।

जिसे अब एक साल पूरा हो गया है। हालांकि विभाग वैक्सीनेशन के टारगेट के करीब पहुंचा है। लेकिन अभी तक दूसरी डोज के मामले में पिछड़ा हुआ है। हिसार में 1319000 लोगों को वैक्सीन लगाने का टारगेट है। वहीं अब तो हिसार में 15 से 17 आयु वर्ग के किशोरों में और बुजुर्गों, हेल्थ कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर में प्रिकोशनरी डोज लग रही है। लेकिन पिछले 15 दिन से सभी वर्गों में वैक्सीनेशन कम हो रहा है विभाग के नोडल अधिकारी डा जितेंद्र शर्मा का कहना है कि ऐसा मौसम के कारण है। अधिक सर्दी के कारण लोग वैक्सीन लगवाने नहीं पहुंच रहे हैं।

Edited By: Manoj Kumar