जागरण संवाददाता, भिवानी : हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष डा. जगबीर सिंह एवं सचिव कृष्ण कुमार ने बताया कि 10वीं एवं 12वीं परीक्षा शैक्षिक सत्र 2021-22 के लिए राजकीय एवं अराजकीय स्थाई मान्यता प्राप्त विद्यालयों से आनलाइन विद्यालय डाटा, निरन्तरता शुल्क व नई सम्बद्धता के लिए आवेदन मांगे गए हैं। इसके लिए वे दो नवंबर तक अपना शुल्क जमा करा सकते हैं।

शैक्षिक सत्र 2021-22 के लिए अराजकीय स्थाई मान्यता प्राप्त विद्यालय जो पहले से ही शिक्षा बोर्ड से सम्बद्धता प्राप्त हैं, उन द्वारा सम्बद्धता निरन्तरता शुल्क 2000 रुपये निर्धारित किया गया है। जिन अराजकीय स्थाई मान्यता प्राप्त विद्यालयों द्वारा नई सम्बद्धता ली जानी है उनको 20000 रुपये शुल्क जमा करवाना होगा। सम्बद्धता निरन्तरता शुल्क व नई सम्बद्धता के लिए आवेदन-पत्र व शुल्क जमा करवाने की तिथियां बिना विलम्ब शुल्क सहित दो नवम्बर, तक निर्धारित की गई है। विलम्ब शुल्क 5000 रुपये सहित तीन से 12 नवम्बर तक निर्धारित की गई है।

बोर्ड चेयरमैन ने बताया कि राजकीय विद्यालयों द्वारा भी दो नवम्बर तक बिना शुल्क के स्कूल डाटा से सम्बन्धित फार्म बोर्ड वेबसाइट पर दिए गए लिंक से आनलाइन भेजा जाना है। किसी विद्यालय द्वारा समय रहते डाटा अपलोड नहीं किया जाता है और ऐसे विद्यालय तीन से 12 नवम्बर तक यह डाटा, फार्म अपलोड करता है, तो ऐसे विद्यालय को 5000 रुपये जुर्माना शुल्क भी देना होगा। बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि इस सम्बन्ध में सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को भी पत्र के माध्यम से अवगत करवाया गया है कि वे उनके अधीन सभी स्कूल मुखियाओं को निर्देशित करें।

वह समय रहते दो नवम्बर तक सम्बद्धता से सम्बन्धित दस्तावेज, फार्म अपलोड करना सुनिश्चित करें। बोर्ड सचिव ने बताया कि राजकीय विद्यालयों द्वारा स्कूल डाटा फार्म एवं अराजकीय विद्यालयों द्वारा सम्बद्धता आवेदन फार्म व शुल्क आनलाइन बोर्ड की अधिकारिक वेबसाइट www.bseh.org.in पर उपलब्ध लिंक के माध्यम से भरा जाना है। सम्बद्धता शुल्क एचडीएफसी बैंक द्वारा गेटवे पेंमेट के माध्यम से अानलाइन जमा करवाया जाना है। किसी भी प्रकार की तकनीकी कठिनाई के लिए मोबाइल नम्बर 9896582271 या बोर्ड कार्यालय की सम्बद्धता शाखा के फोन नम्बर 01664-244171 से 176 Ext.111 पर सम्पर्क किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त सम्बद्धता शाखा की ई-मेल asenr@bseh.org.in पर भी मेल भेज सकते है।

Edited By: Manoj Kumar