जागरण संवाददाता, हिसार। हरियाणा में बीते एक सप्‍ताह से गर्मी और उमस चर्म पर है। दिन के वक्‍त तो हालात ऐसे होते हैं कि बाहर भी नहीं निकला जा रहा तो रात के वक्‍त उमस बेहाल कर रही है। मगर राहत भरी खबर ये है कि आज रात से उत्‍तरी हरियाणा में मौसम के करवट बदलने के आसार है। आने वाले एक से दो दिन में मानसूनी हवा पूरे हरियाणा में बारिश लेकर आ सकती है। सुबह रेवाड़ी तो दोपहर में भिवानी में बूंदाबांदी भी हुई है। हिसार में भी मौसम करवट बदल सकता है।

बता दें कि बंगाल की खाड़ी से चलने वाली मानसूनी हवाएं उत्तर प्रदेश के साथ लगते जिलों में हरियाणा में प्रवेश करेगी। 29 जून से यमुनानगर, करनाल, पानीपत, सोनीपत, पलवल के अलावा पंचकुला, फरीदाबाद, गुरुग्राम, अंबाला और मेवात के क्षेत्रों में बारिश देखने को मिल सकती है। तीन से चार जुलाई तक मानसून के पूरे में हरियाणा में छा जाने की संभावना है।

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष मदन लाल खिचड़ ने बताया कि 29 जून से मौसम में बदलाव होगा। 30 जून को रेवाड़ी और झज्जर जिलों में मानसून पहुंच जाएगा। इसके बाद धीरे-धीरे मानसून पूरे प्रदेश में छा जाएगा। सामान्य तौर पर अरब सागर की तरफ से भी मानसूनी हवाएं प्रदेश में आती हैं मगर इस बार बंगाली की खाड़ी से आने वाली हवाएं प्रदेश में पहले एंट्री करेंगी।

वहीं बारिश के अभाव में फसलें भी सूख रही हैं। बाकी फसलों की बिजाई के लिए बारिश की जरूरत है तो वर्तमान में कपास की फसल सूख रही थी ऐसे में बारिश की बहुत दरकार है। गर्मी ने तो हाल बुरा किया ही है साथ में उमस के कारण लोगों को सांस लेने में भी दिक्‍कत हो रही है। वहीं पशुओं में भी इस मौसम में बुरा प्रभाव देखने को मिला है। मौसम के तनाव के कारण पशुओं में दूध भी कम हो गया है।

Edited By: Manoj Kumar