जागरण संवाददाता, हिसार : निकाय मंत्री डा. कमल गुप्ता के ड्रीम प्रोजेक्ट को ट्रैफिक पुलिस ने ग्रीन सिग्नल दे दिया है। बस अड्डे के मेन गेट के बाहर जाम की स्थिति को लेकर ट्रैफिक एसएचओ ने रोडवेज प्रशासन को रिपोर्ट सौंप दी है। रिपोर्ट में लिखा है कि बसों का नए गेट से संचालन होने से मुख्य गेट पर जाम में पहले से कमी आई है। इसके अलावा ट्रैफिक पुलिस ने बस अड्डे के मेन गेट के बाहरी ओर रेहड़ियों को भी हटवा दिया है। आटो चालकों के लिए अलग से जगह निर्धारित की है, ताकि जाम की स्थिति से निजात मिल सके। इससे भी काफी असर पड़ा है। एसएचओ की रिपोर्ट के बाद निकाय मंत्री के प्रोजेक्ट पर मुहर लगना तय माना जा रहा है, क्योंकि यह प्रोजेक्ट ही बस अड्डे के सामने जाम पर लगाम लगाने के इरादे से शुरू किया गया था। अब रोडवेज प्रशासन पीडब्ल्यूडी के साथ बैठक कर अगले स्टेप पर विचार-विमर्श करेगा। इसके लिए पीडब्ल्यूडी से सोमवार को संपर्क साधा जाएगा। अब तक रोडवेज को ट्रैफिक पुलिस की रिपोर्ट का इंतजार था। वो रिपोर्ट भी सही पाई गई। जो बसें मेन गेट से आवागमन करती थी। वो अब नए गेट से आवागमन कर रही है। रिपोर्ट के अनुसार हर रोज रोडवेज व प्राइवेट 300 बसों का नए गेट से संचालन है। इन बसों के 600 से ज्यादा फेरे दिन में होते है। इस हिसाब से 80 प्रतिशत बसों के नए गेट से संचालन होने के कारण मुख्य गेट पर जाम नहीं रहा, क्योंकि बसों का शहर के अंदर आवागमन नहीं है। अब बस शहर के अंदर से बजाय सीधा बाईपास बस अड्डा पर आती है।

इन पर होगी चर्चा

अगर नए गेट से बसों का संचालन नियमित रखना है तो उसके लिए कई प्वाइंटों पर काम करना होगा। जैसे कि वर्कशाप का मेन गेट, डीआइ रूम, यार्ड रूम को शिफ्ट करना। वर्कशाप के अंदर के रोड की मरम्मत करना। बैठक में इन विषयों पर चर्चा होगी। इसके बाद एस्टीमेट बनाकर परिवहन विभाग को अवगत करवाकर अनुमति ली जाएगी।

आरटीए भी शुरू करेगा सर्वे

आरटीए भी नए गेट से रूटों का बसों का सर्वे शुरू करेगा। जिन-जिन रूटों की बसों का नए गेट से संचालन होना है। उन रूटों का सर्वे होगा। उसमें पता लगाया जाएगा कि किस रूट की कितनी दूरी बढ़ी है और यह रूट कितना कारगर है। हालांकि रोडवेज की बसे शुरू से नए गेट से संचालित हो रही है, जबकि प्राइवेट बस एसोसिएशन के इसके विरोध में है। उनका कहना है कि जब तक आरटीओ रूट तय कर नहीं देगा, तब तक मेन गेट से ही बसों का संचालन रखेंगे।

सफेद पट्टी खिचवाई

रोडवेज प्रशासन ने पीडब्ल्यूडी से बस अड्डा के दोनों गेट पर दोनों तरफ सफेद पट्टी खिचवा दी है। अब बसों को इन्हीं पट्टी पर चलना होगा। इसका कारण है कि कुछ निजी बस चालक गेट से बाहर निकलते समय ज्यादा समय लगाते है और मनमर्जी से बस रोक लेते है। बूथ से बस अड्डा से बाहर जाने के लिए दो मिनट का समय दिया हुआ है, निजी बस चालक सवारियों के चक्कर तीन से चार मिनट गेट तक आने में लगा देते है। मैंने रोडवेज प्रशासन को रिपोर्ट सौंप दी है। मेन गेट पर जाम में पहले से काफी कमी आई है। मेन गेट के बाहर से रेहड़ियां भी हटवा दी है।

- विनोद कुमार, एसएचओ, ट्रैफिक थाना।

-----------------

वर्जन

मैं अभी दो दिन से बाहर हूं। सोमवार को इस मामले में चर्चा की जाएगी। हमारी पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों से बातचीत भी होनी है। इसके बाद ही अगली रणनीति बनाई जाएगी।

- राहुल मित्तल, जीएम, हिसार डिपो

Edited By: Jagran