जागरण संवाददाता, सिरसा। सिरसा में जिले में डेंगू तेजी से पांव पसार रहा है। शुक्रवार को डेंगू के आठ नए केस आए है तथा डेंगू का आंकड़ा 323 तक पहुंच गया है। ऐलनाबाद उपचुनाव के लिए डयूटी पर आए सीआरपीएफ, आरएएफ व आइटीबीपी के 25 जवान भी डेंगू पाजिटिव मिले हैं, जिनमें से कुछ को नागरिक अस्पताल में भर्ती है।

एक जवान की तबीयत बिगड़ जाने के बाद उसे शुक्रवार सुबह अग्रोहा मेडिकल कालेज रेफर किया गया। उधर डेंगू के कारण रानियां रोड निवासी इंद्रोष गुज्जर की इकलौती बेटी का निधन हो गया। नौ वर्षीय लड़की चौथी कक्षा में पढ़ती थी। इंद्रोष गुज्जर विधायक गोपाल कांडा के नजदीकियों में गिने जाने हैं। दो दिन पहले ही लड़की की तबीयत बिगड़ी थी, जिसके बाद उसे शहर के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसकी हालात में कुछ सुधार हुआ परंतु बाद में अचानक उसके शरीर से ब्लडिंग होने लगी। जिसके बाद स्वजन लड़की को लेकर हिसार के निजी अस्पताल में पहुंचे, जहां रात को उसकी मौत हो गई।

जवान की तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उसे अग्रोहा रेफर किया

अस्पताल में उपचाराधीन सुरक्षा बल के जवान डी आनंद, हवलदार राजेश, जयाराम चौधरी ने बताया कि उनकी चुनावों में डयूटी लग हुई है। अलग अलग जगहों पर ठहरे हुए है। नेजिया गांव के समीप स्कूल में ठहरे जवानों में अनेक डेंगू पाजिटिव है। इसके अलावा जाट धर्मशाला में ठहरे जवान भी पाजिटिव आए है। उपचाराधीन जवानों ने बताया कि उनमें सीआरपीएफ, आरएएफ, आइटीबीपी के 25 से अधिक जवान डेंगू पाजिटिव है। इसके अलावा एक जवान की तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उसे अग्रोहा रेफर किया गया है।

फागिंग करवाने के दिए निर्दश

शुक्रवार दोपहर को उपायुक्त अनीश यादव, एसडीएम जयवीर यादव अचानक नागरिक अस्पताल में पहुंचे। उन्हाेंने अस्पताल में एमरजेंसी वार्ड, डेंगू वार्ड व अन्य वार्डों में जाकर सुविधाओं का जायजा लिया। जिले में डेंगू रोगियों, किए जा रहे प्रबंधों के बारे में जानकारी ली। इस मौके पर सिविल सर्जन डा. मनीष बंसल, पीएमओ डा. मनदीप सिंह, मलेरिया विभाग के नोडल अधिकारी डा. हरसिमरण सिंह मौजूद रहे। उपायुक्त ने डेंगू वार्ड में पहुंचकर मरीजों का कुशलक्षेम जाना। अस्पताल में मिल रही सुविधाओं के बारे में पूछा। अस्पताल में भर्ती सुरक्षा बलों के जवानों से भी मिले और एसडीएम को निर्देश दिये कि जहां जवान ठहरे हुए हैं वहां फागिंग करवाई जाए।

डीसी बोले: लारवा मिलें तो दें नोटिस, काटे चालान

उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे सर्विलांस बढ़ाएं और घरों में लारवा की जांच की जाए। जिन घरों, दफ्तरों, दुकानों में लारवा मिले उन्हें नोटिस दिया जाए। उनके चालान काटे जाएं। उन्होंने आमजन से कहा कि कहीं पर भी पानी को एकत्रित न होने दें। कूलरों, टंकियों, होदियों, पशु-पक्षियों के बर्तनों को धोकर व सुखाकर कर ही प्रयोग करें ताकि लारवा न पनप सके। बीमारी के लक्षण दिखने में तुरंत अपनी चिकित्सीय जांच करवाएं।

जिले में वर्तमान में 100 मरीज अस्पतालों में भर्ती है। अब तक 323 केस आ चुके है। जहां डेंगू के केस मिल रहे हैं वहां जांच करवा रहे हैं और फागिंग भी करवाई जा रही है। रानियां रोड पर डेंगू से लड़की की मौत होने के बारे में जानकारी नहीं है, वे जांच करवाएं। - डा. मनीष बंसल, सिविल सर्जन सिरसा

Edited By: Naveen Dalal