जागरण संवाददाता, सिरसा : प्रदेश सरकार ने बिजली की खपत घटाने के लिए सौर ऊर्जा सबमर्सिबल कनेक्शन देने का फैसला किया हुआ है। इसके तहत सिरसा में किसानों ने बड़ी संख्या में दस, पांच, साढ़े सात हार्स पावर के सौर ऊर्जा कनेक्शन के लिए आवेदन किए थे। आठ हजार से अधिक किसानों को इस योजना के तहत सब्सिडी पर सोलर सिस्टम उपलब्ध करवाए गए और कई कंपनियों को कार्य आवंटित कर दिया गया। इन कंपनियों ने ट्यूबवेल के साथ ही सोलर स्ट्रक्चर खड़ा कर दिया ताकि किसान को दिन में बिजली उपलब्ध हो सके।

खुद के बजाय दूसरे के यहां कनेक्शन लगाने की भी मिली थी जानकारी

प्रशासन के पास ऐसी भी जानकारियां आ रही थी कि सोलर सिस्टम लगना किसी के यहां था जबकि लग कहीं ओर लग गया। कुछ मामलों में यह भी सुनने में रहा कि किसान ने दूसरे किसान को पूरा सिस्टम ही उपलब्ध करवा दिया और खुद पहले की तरह बिजली पर ट्यूबवेल चला रहा है। ऐसी शिकायतों के बीच प्रशासन ने फीडबैक लेने के लिए सक्षम युवाओं को मैदान में उतार दिया है। सक्षम युवाओं की टीम को लाभपात्रों की सूची उपलब्ध करवा दी गई है और मौके पर पहुंचकर उन्हें फोटोग्राफ सहित इसकी रिपोर्ट तैयार करनी है।

सौर ऊर्जा के बारे में भी युवा लेंगे फीडबैक

सौर ऊर्जा के अधिकारियों के अनुसार युवा जिस व्यक्ति को योजना का लाभ लिया दिखाया गया है वह योजना का लाभ ले रहा है या नहीं की जांच करेंगे। इसके साथ ही सोलर सिस्टम को लेकर फीडबैक लेंगे ताकि कोई परेशानी हो तो उसकी जानकारी भी प्रशासन के पास पहुंच सके। युवाओं से यह भी कहा गया है कि वे सोलर सिस्टम के बारे में दिया गया प्रोफार्मा भी किसान से भरवाएं और जिन किसानों के यहां सोलर सिस्टम नहीं लगा उसकी रिपोर्ट अलग से तैयार करें।

-----------

सौर ऊर्जा से संबंधित फीडबैक लेने के लिए सक्षम युवाओं की ड्यूटी लगाई गई है। 40 से अधिक युवा एक माह से फील्ड में हैं। जल्द ही पूरे जिले की रिपोर्ट तैयार होगी और इसके बाद जिन्होंने सौर ऊर्जा आधारित पंप नहीं लगवाया उन्हें योजना का लाभ नहीं मिलेगा और कंपनी के खिलाफ भी कार्रवाई होगी।

संजीव नैन, परियोजना अधिकारी, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा विभाग

Edited By: Manoj Kumar