बहादुरगढ़, जागरण संवाददाता। बहादुरगढ़ शहर के सिविल अस्पताल में वैक्सीनेशन के कारण बढ़ती भीड़ को देखते हुए यहां पर व्यवस्था बदल दी गई है। अब यहां पर 18 वर्ष से ऊपर वालों के लिए पहली डोज बंद की गई है। हालांकि 15 से 18 वर्ष वालों के लिए यहां पर वैक्सीनेशन है। मगर बाकी के लिए पहली डोज की व्यवस्था कैंपों और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में की गई है।

यहां पर वैक्सीन की पहली डोज की व्यवस्था

दरअसल, कोरोना से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से वैक्सीनेशन पर जोर दिया गया और सार्वजनिक स्थलाें पर बिना वैक्सीनेशन वालों का प्रवेश बंद किया गया। इसी के चलते बहादुरगढ़ में कैंपों की संख्या बढ़ाई गई। इससे कैंपों के अलावा सिविल अस्पताल में भी वैक्सीनेशन के लिए भीड़ बढ़ रही थी। जिन्होंने वैक्सीनेशन करवाया ही नहीं था, वे पहली डाेज लगवाने के लिए पहुंच रहे थे। इनमें कामगारों की संख्या ज्यादा थी। सिविल अस्पताल में तीन जगहों पर वैक्सीनेशन की व्यवस्था की गई थी। एक जगह पर तो केवल 15 से 18 साल वालों के लिए वैक्सीनेशन की व्यवस्था की गई थी।

जबकि बाकी दो जगहों पर 18 वर्ष से ऊपर वालों के लिए पहली और दूसरी डोज की व्यवस्था थी। इसके चलते यहां पर लंबी-लबी लाइन लग रही थी। इससे संक्रमण के फैलाव की संभावना ज्यादा बन रही थी। यह देखते हुए स्वास्थ्य विभाग की ओर से सिविल अस्पताल में अब पहली डोज का वैक्सीनेशन बंद किया गया है। ताकि यहां पर ज्यादा भीड़ न बने। अब यहां पर 18 वर्ष से ऊपर वालों के लिए केवल दूसरी और तीसरी डोज की व्यवस्था की गई है। हालांकि 15 से 18 वालों के लिए यहां पर वैक्सीन की पहली डोज की व्यवस्था है।

नोडल अधिकारी के अनुसार

सिविल अस्पताल में फिलहाल दूसरी और तीसरी डोज की व्यवस्था है। पहली डोज की व्यवस्था कैंपों और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर की गई है।

-----डा. सुंदरम कश्यप, वैक्सीनेशन नोडल अधिकारी, बहादुरगढ़।

Edited By: Naveen Dalal