हिसार, जेएनएन। करीब आधे शहर में सीवरेज सिस्टम बेपटरी है। वार्ड-7 में पिछले 10 दिनों से सीवरेज जाम की स्थिति बनी हुई है। बार-बार अफसरों से गुहार लगाने बावजूद जब सीवरेज व्यवस्था दुरुस्त नहीं हुई तो बुधवार को पार्षद मनोहर लाल धरने पर बैठ गए। मॉडल टाउन में जनस्वास्थ्य विभाग कार्यालय पर धरने को जनता का भी समर्थन मिला। सुबह 10 से दोपहर एक बजे तक जनस्वास्थ्य विभाग के अफसरों के खिलाफ पार्षद और जनता ने जमकर नारेबाजी की। मामला बढ़ता देख एसडीओ और जेई मौके पर आए और देर रात तक जनस्वास्थ्य विभाग की टीम ने काम शुरू कर दिया। वहीं आश्वासन पर धरना समाप्त हुआ।

दो दिन में समाधान नहीं हुआ तो हो सकता है आंदोलन

पार्षद मनोहर लाल ने कहा कि लापरवाही और कार्य के प्रति उदासीनता की हद होती है। एक तरफ कोरोना के चलते दूसरे विभागों के कर्मचारी दिनरात डयूटी के अलावा जनता के प्रति नैतिक जिम्मेदारी समझते हुए अतिरिक्त कार्य कर रहे है वहीं जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारी काम करना तो दूर जनप्रतिनिधियों को झूठे आश्वासन दे अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे है। पिछले 10 दिन से अधिक समय से मेरे वार्ड में समस्या बनी हुई थी ऐसे में बार बार कहने के बावजूद जब समाधान नहीं हुआ तो जनता के लिए लॉकडाउन की पालना करते हुए शारीरिक दूरी बना कर जनस्वास्थ्य विभाग कार्यालय पर धरना प्रदर्शन करना पड़ा।

  • अफसरों को ये सौंपा मांगपत्र
  • वार्ड-7 की सीवरेज व्यवस्था सुचारु करवाए।
  • मिलगेट से जहाजपुल चौक की मैन लाइन चालू करवाना।
  • मिलगेट पर लगी मोटर का स्थाई समाधान। जरनेटर की व्यवस्था करवाए।
  • मैनहोल के पास जीटी लगवाए और जहां लगी है वहां सफाई करवाए।
  • 12 क्वार्टर रोड पर बरसाती नाले की जाली लगवाए।
  • वार्ड में टूटे सीवरेज ढक्कर बदलवाए।

बुधवार सायं से ही अफसरों ने काम शुरु करने का आश्वासन दिया था। देर रात तक जनस्वास्थ्य विभाग की टीम ने काम शुरू कर दिया था। यदि वार्ड की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो जनता के लिए आवाज उठाउंगा। 

- मनोहर लाल, वार्ड-7 पार्षद, नगर निगम हिसार।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस