जागरण संवाददाता, हिसार। स्वास्थ्य विभाग की कोरोना सैंपल की जांच के लिए सेक्टर 1-4 के हेल्थ सेंटर में बनाई जा रही लैब लगभग तैयार हो चुकी है। इसका निर्माण कार्य अपनी अंतिम स्टेज में है। मामले में सीएमओ डा. रत्ना भारती ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के आदेशों पर सेक्टर 1-4 के हेल्थ सेंटर में कोरोना सैंपल की जांच के लिए बायोलाजी लैब स्थापित की गई है। यहां इंफ्रास्ट्रक्चर लगभग तैयार हो चुका है।

कोरोना सैंपल की जांच शुरू कर दी जाएगी

अब सिर्फ मशीनरी और मैन पावर की सुविधा जल्द ही उपलब्ध करके यहां कोरोना सैंपल की जांच शुरू कर दी जाएगी। इससे स्वास्थ्य विभाग को सैंपल की रिपोर्ट जल्दी मिल जाएगी। सीएमओ का कहना है कि तीसरी लहर कभी भी आ सकती है। ऐसे में जरूरी संसाधन जुटाना जरूरी है। विभाग की खुद की लैब होगी तो प्राइवेट लैब में सैंपल भेजने की जरूरत नहीं होगी। अब न ही अग्रोहा मेडिकल की लैब में सैंपल भेजने पड़ेंगे। सैंपल की जांच शहर में ही हो पाएगी, जिससे रिपोर्ट भी जल्दी मिलेगी।

मार्च 2020 में राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान की लैब में कोरोना सैंपल की जांच शुरू की गई थी

मरीज और हेल्थ कर्मी दोनों को सुविधा रहेगी। गौरतलब है कि हिसार में मार्च 2020 में कोरोना केस आने पर राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान की लैब में कोरोना सैंपल की जांच शुरू की गई थी। लेकिन जून के बाद अश्व अनुसंधान के अधिकारियों ने सैंपल जांच के लिए मना कर दिया था। उनका कहना था कि वे पिछले साल से सैंपल करते आ रहे हैं। जिससे उनका रिसर्च कार्य प्रभावित हो रहा है।

हिसार में पिछले कुछ समय से कोरोना के मामलों में राहत है

अब वे अपने रिसर्च कार्य पर ध्यान केंद्रित करेंगे। जिसके चलते अब कोरोना सैंपल की जांच नहीं कर पाएंगे। इसके बाद जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने उच्च अधिकारियों को लैब की डिमांड की। लैब के लिए स्वास्थ्य विभाग मुख्यालय से 32 लाख का बजट जारी किया गया और लैब का निर्माण कार्य शुरू किया गया। हालांकि हिसार में पिछले कुछ समय से कोरोना के मामलों में राहत हैं। लेकिन कोरोना की तीसरी लहर की संभावनाओ को देखते हुए विभाग की तरफ से स्वास्थ्य सुविधाओं में बढ़ोतरी की जा रही हैं।

Edited By: Naveen Dalal