हिसार [पवन सिरोवा] गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य सेवाओं के लिए आगामी समय में नागरिक अस्पताल पर ही आश्रित होने की जरूरत नहीं रहेगी। स्वास्थ्य विभाग प्रसव के दौरान इमरजेंसी सुविधाओं के लिए शहर में चार नए हेल्थ सेंटर बनाने जा रहा है। ये चारों उस जगह बनेंगे जहां सबसे ज्यादा आबादी रहती है। इसके लिए मेयर गौतम सरदाना व निगम कमिश्नर को सीएमओ की ओर से पत्र भेजकर निगम की जमीन की मांग की गई है। यह प्रपोजल अब आगामी 26 दिसंबर को होने वाली निगम की साधारण बैठक में रखा जाएगा।

ये हेल्थ सेंटर आजाद नगर, ऋषि नगर, पटेल नगर, महावीर कालोनी में बनाए जाएंगे। उधर वार्ड-1 के पार्षद अनिल जैन ने कहा कि हमने तो सीएमओ प्रपोजल के लिए जमीन भी चिन्हित कर ली है जिसका प्रस्ताव साधारण बैठक में रखा जाएगा। इसके अलावा सिविल अस्पताल को भी सिरसा रोड पर शिफ्ट करने की तैयारी तेज हो गई है। जमीन को चिन्हित करने के लिए एसीएस से मंजूरी मिल गई और उसकी तलाश शुरू कर दी है।

हेल्थ सेंटर के लिए जमीन की मांग

- अर्बन हेल्थ सेंटर आजाद नगर के लिए एक एकड़ जमीन।

- अर्बन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ऋषि नगर में एक हजार गज।

- अर्बन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पटेल नगर में एक हजार गज।

- अर्बन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र महाबीर कालोनी में एक हजार गज।

वर्तमान में किराये के भवन में चल रहे हेल्थ सेंटर, सरकारी जमीन पर होंगे शिफ्ट

वर्तमान में आजाद नगर, सत्य नगर सहित चार क्षेत्रों में हेल्थ सेंटर तो चल रहे हैं लेकिन उनमें चिकित्सा सुविधाएं नाममात्र ही हैं। केवल आजाद नगर में ही प्रसव की सुविधा है, लेकिन उसमें भी थोड़ी भी इमरजेंसी होती ही सामान्य अस्पताल में पहुंचना पड़ता है। ऐसे में अब इन सभी हेल्थ सेंटरों पर प्रसव की बेहतर सुविधाएं व अन्य उच्च स्तर की स्वास्थ्य सेवाओं के प्रबंध के लिए सिविल सर्जन ने मेयर व निगम कमिश्नर को पत्र भेजकर सरकारी जमीन की मांग की है।

नागरिक अस्पताल की शि¨फ्टग को एसीएस ने दी हरी झंडी

स्वास्थ्य विभाग के एसीएस राजीव अरोड़ा ने नागरिक अस्पताल की शहर से बाहर शि¨फ्टग प्रपोजल को स्वीकृति दे दी है। सीएमओ ने कहा कि एसीएस के आदेश पर उपायुक्त और डीआरओ को पत्र भेजकर राजकीय पशुधन फार्म (जीएलएफ) की जमीन चिन्हित करने के लिए पत्राचार किया है। उधर जीएलएफ की ओर से भी इस प्रपोजल पर पहले चरण में सहमति मिल गई है। अब मुख्यालय से इसकी सहमति के लिए उन्होंने सीएमओ से जमीन के खसरा नंबर की मांग की है ताकि मुख्यालय की सहमति के लिए प्रपोजल भेजा जा सके।

नागरिक अस्पताल शि¨फ्टग के पीछे का कारण

अस्पताल के पास करीब 665 साल पुराना (साल 1354 से 1356) फिरोजशाह का किला यानि गुजरी महल बना है। जो एएसआई के अधीन है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अनुसार पुरातत्व स्थल की सीमा से 100 मीटर क्षेत्र में निर्माण नहीं कर सकते। अस्पताल का क्षेत्र 100 मीटर दायरे में होने के कारण बि¨ल्डग निर्माण नहीं हो सकता है। इसलिए इसे बाहर शिफ्ट किया जा रहा है।

वर्तमान में नागरिक अस्पताल की स्थिति

अस्पताल का एरिया - 20 एकड़, 4 कनाल, 8 मरला है। - बैड की स्थिति - 200 बैड - अस्पताल का प्रथम ब्लॉक व द्वितीय ब्लॉक बना - साल 1957 और साल 1974 - टीबी अस्पताल भी साथ बना है जिसका एरिया - 5 एकड़, 15 कनाल है यह दो ब्लॉक में बना है। शि¨फ्टग प्रपोजल में ये होंगी सुविधाएं - करीब 70 एकड़ का नागरिक व टीबी अस्पताल का बना है प्रपोजल - 300 बैड का नागरिक अस्पताल के लिए भूमि - 22 एकड़ - 100 बैड का टीबी अस्पताल के लिए भूमि - 10 एकड़ - एमसीएच ¨वग 100 बैड - 10 एकड़ - 50 बैड का ट्रामा सेंटर - 4 एकड़ - नर्सिंग स्कूल ट्रे¨नग सेंटर व ग‌र्ल्स हॉस्टल - 4 एकड़ - सीएमओ ऑफिस व सेंट्रल स्टोर - 4 एकड़ - क्षेत्रीय वैक्सिन स्टोर - 2 एकड़ - ऑल डिप्टी सिविल सर्जन ऑफिस - 5 एकड़ - पब्लिक प्राइवेट पाटर्नरशिप प्रोजेक्ट - 4 एकड़ - क्षेत्रीय व‌र्ल्ड ट्रांसफर सेंटर - 1 एकड़ - पोस्टमार्टम के लिए जगह - 1 एकड़ - रीजनल वेयर हाउस - 2 एकड़ - जन्म व मृत्यु पंजीकरण ऑफिस - 1 एकड़

----अस्पताल सिरसा रोड पर शि¨फ्टग के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से जमीन मांगी गई है। हमने उन्हें पत्र भेजकर जमीन का खसरा नंबर मांगा है ताकि प्रपोजल मुख्यालय भेजकर उसपर आगामी कदम उठाया जा सके। -श्रीकृष्ण बागोरिया, चीफ अधीक्षक, जीएलएफ हिसार।

---एसीएस की ओर से प्रपोजल के लिए जमीन चिन्हित करने के संबंध में दिशा निर्देश मिले हैं। जिसके तहत उपायुक्त व डीआरओ से जमीन चिन्हित के संबंध में पत्राचार किया है। इसके अलावा हमने शहर में चार हेल्थ सेंटर के लिए मेयर व निगम कमिश्नर को पत्र भेजकर सरकारी जमीन की मांग की है। इन हेल्थ सेंटरों में डिलीवरी की सुविधा उपलब्ध करवाने की प्ला¨नग की गई है। जिसके साथ शहर के पिछड़े क्षेत्रों की जनता को इनमें उच्च स्तर की स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाई जाएगी।

-डा. संजय दहिया, सीएमओ, स्वास्थ्य विभाग हिसार।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस