हिसार, जागरण संवाददाता। हरियाणा राज्य फार्मेसी काउंसिल में लाखों रुपये रिश्वत लेकर फार्मेसी लाइसेंस दिलवाने के मामले में गिरफ्तार गए राज्य फार्मेसी काउंसिल के उपप्रधान सोहनलाल और भिवानी के विद्यानगर निवासी दलाल सुभाष अरोड़ा से विजिलेंस ने रिमांड के दौरान दो लाख 21 हजार रुपये बरामद किए हैं। इनमें से सोहनलाल से एक लाख 40 हजार रुपये और सुभाष अरोड़ा से 81 हजार रुपये बरामद किए गए हैं।

सोहनलाल से विजिलेंस एसआइटी टीम ने 25 फार्मेसी रिन्यूल प्रमाण पत्र भी बरामद किए हैं। सोहन लाल ने रिमांड के दौरान पूछताछ में कबूल किया है कि उसने 21 विद्यार्थियों के रिन्यूल प्रमाण पत्र के लिए रुपये लिए थे। वहीं सुभाष ने भी कबूल किया था कि उसने 13 विद्यार्थियों से चार लाख रुपये लेकर उप प्रधान को दिए थे। सुभाष अरोड़ा से 40 युवाओं के डी-फार्मा के शैक्षणिक प्रमाण पत्र, 12वीं और 10वीं के प्रमाणपत्र और फार्मेसी लाइसेंस से संबंधित अन्य दस्तावेज बरामद किए गए हैं। आरोपितों को दो दिन के रिमांड के बाद मंगलवार को विजिलेंस टीम ने भिवानी विजिलेंस कोर्ट में पेश कर भिवानी की जेल भेज दिया है।

एक टीम दस्तावेजाें की कर रही जांच

विजिलेंस डीएसपी गौरव ने बताया कि अभी मामले में जांच की जा रही है। अब तक मामले में कुल एक लाख 82 हजार 500 रुपये की रिकवरी सोहनलाल से और 81 हजार रुपये सुभाष अरोड़ा से बरामद किए जा चुके हैं। पंचकूला, हिसार और भिवानी विजिलेंस टीम मामले की जांच में जुटी है। एक टीम बरामद दस्तावेजाें की जांच में जुटी है।

सोहनलाल और सुभाष के तीन बैंक खाता को किया सीज

राज्य फार्मेसी उप प्रधान सोहनलाल और सुभाष के बैंक खातों की विजिलेंस ने सीज करवाया है। इनमें दलाल सुभाष अरोड़ा के तीन बैंक खातों को सीज किया गया है, वहीं सोहनलाल के भी चार बैंक खाते सीज किए है। इनके अन्य बैंक खातों की जानकारी भी हासिल की जा रही है। पिछले वर्षो में किए गए लेन-देन की जानकारी विजिलेंस टीम जुटा रही है।

कई बच्चों के आधार कार्ड और शैक्षणिक प्रमाण-पत्र बरामद

विजिलेंस की तरफ से इस मामले में तीन अलग-अलग टीमें काम कर रही है। इनमें इंस्पेक्टर धर्मबीर की टीम ने सोहनलाल के कार्यालय से राशि और दस्तावेजों की रिकवरी की है। जबकि सुभाष अरोड़ा से भी रिकवरी करने वाली विजिलेंस टीम ने कई विद्यार्थियों के शैक्षणिक दस्तावेज बरामद कर उनसे संपर्क करके जांच भी कर रही है कि उनसे कितने रुपये मांगे गए है।

इधर चेयरमैन और रजिस्ट्रार की गिरफ्तारी के लिए संभावित ठिकानों पर दी दबिश

इधर विजिलेंस टीम ने हरियाणा फार्मेसी काउंसिल के प्रधान धनेश अदलखा और रजिस्ट्रार राजकुमार की गिरफ्तारी के लिए कई संभावित ठिकानों पर दबिश दी, हालांकि दोनों की देर शाम तक गिरफ्तारी नहीं हो पाई थी।

गौरतलब है कि विजिलेंस ने राज्य फार्मेसी काउंसिल के उपप्रधान हिसार के सेक्टर 13 निवासी सोहनलाल और भिवानी निवासी दलाल सुभाष अरोड़ा को फार्मेसी लाइसेंस के लिए रिश्वत लेने के मामले में गिरफ्तार किया था। विजिलेंस ने सुभाष को गिरफ्तार करने के बाद इस मामले में राज्य फार्मेसी काउंसिल के चेयरमैन धनेश अदलखा, उप प्रधान सोहनलाल, रजिस्ट्रार राजकुमार और सुभाष के खिलाफ केस दर्ज किया था।

Edited By: Rajesh Kumar