जागरण संवाददाता, हिसार

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय द्वारा 82 वीं त्रिमूर्ति शिव जयंती पर बालसमंद रोड स्थित पीस पैलेस में आध्यात्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर केंद्र प्रभारी राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी रमेश कुमारी ने कहा कि भारत में परमपिता परमात्मा शिव का अवतरण होता है जो हम सभी आत्माओं का पिता है। शिव जयंती का त्यौहार परमात्मा के अवतरण की याद में मनाया जाता है। निराकार ज्योति ¨बदु भगवान शिव माता के गर्भ से जन्म नहीं लेते हैं, जबकि साधारण वृद्ध मनुष्य के तन में अवतरित होते हैं, जिसको ब्रह्मा का नाम देते हैं। उनका ज्ञान संपूर्ण विश्व में फैल रहा है। अब समय बिल्कुल ही कम बचा है। महत्वपूर्ण यह है कि गुप्त रूप में आए हुए परमात्मा को पहचान कर उनसे संबंध जोड़कर उनके ज्ञान से मुक्ति व जीवन मुक्ति की सौगात को प्राप्त किया जाए। शिव की याद में रहने से हमारे सब दुख दूर हो जाएंगे।

इस अवसर पर मुख्य रूप से बीके अनीता, बीके ज्योति, बीके संतोष, डा. आरपी गलोत्रा, डा. राजेंद्र विरमानी, ओमप्रकाश ललित, पूर्व चेयरमैन सतबीर वर्मा, संजय तिवारी, डा. एमएल गुप्ता, प्रो. वेद गुलियानी, सुभाष लौहिया, प्रो. गीता, वेद सरदाना, नीरू असीजा, डा. कृष्ण झाझड़िया, कुसु मलिक सहित काफी संख्या में गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस