संवाद सहयोगी,नारनौंद : क्षेत्र के एक ईंट भट्ठे पर रहने वाली 15 वर्षीय किशोरी के को बार-बार बेचने और उसके साथ दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। पुलिस ने एक महिला सहित तीन लोगों के खिलाफ मानव तस्करी और दुष्कर्म सहित विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 15 वर्षीय किशोरी ने बताया कि उसके पिता की मौत हो चुकी है और उसकी मां मजदूरी कर उनका पेट पाल रही है। वह और उसकी छोटी बहन उसकी बड़ी बहन के पास चले गए थे। करीब दो साल बाद वहां से आ गई थी। फिर उनकी मुलाकात बरेली के गिलास नगर निवासी वानों के साथ हुई ओर उसके पास रहने लग गई। करीब छह महीने तक दोनों बहने वहीं पर रही। उसके बाद वह वानों की भांजी पिकी के पास कमास खेड़ा आ गई। उसके बाद पिकी उसको नारनौंद क्षेत्र के एक गांव के ईट भट्ठे पर लेकर आ गई। उसके बाद पिकी ने उसको सिसाय निवासी मोनू को बेच दिया और मोनू ने उसके साथ बार बार दुष्कर्म किया। करीब एक महीने बाद उसको वापस पिकी के साथ भेज दिया और मोनू ने कुछ कागजातों पर उसके अंगूठे लगवा लिए। उसके बाद वह फिर से पिकी के साथ उसी ईट भट्ठे पर आ गई। तीन महीने बाद पिकी ने फिर से उसे जींद जिले के गांव कमास खेड़ा निवासी जग्गू को उसे बेच दिया। वहां पर वह छह दिन रही और उस दौरान जग्गू ने उसके साथ जबरदस्ती बलात्कार किया। उसके बाद फिर से पिकी उसको वापस ईट भट्ठे पर लेकर आ गई और वह अक्सर उसके साथ मारपीट करने लगी। बड़ी मुश्किल से वह उसके चंगुल से बचकर पुलिस के पास पहुंची और अपनी शिकायत दर्ज करवाई।

Edited By: Jagran