हिसार, जेएनएन। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने डा. रमेश पुनिया को क्वारंटाइन के कार्यभार से हटाने के मामले में जांच के आदेश दिए हैं। मामले में जांच भी बैठ गई है। विज ने कहा कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी और कोरोना फाइटर का सम्मान सबसे ऊपर है। वहीं अर्बन एस्टेट निवासी जजपा कार्यकर्ता द्वारा देख लेने की धमकी के बाद क्वारंटाइन के कार्यभार से हटाए गए डा. रमेश पूनिया ने मंगलवार को अर्बन एस्टेट निवासी जजपा कार्यकर्ता की रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ कर अफवाह फैलाने, इसी युवक के बीएंडआर के रेस्ट हाउस में वीआइपी सूट में ठहरने और आइसोलेशन में तीन घंटे बिताने के बाद छुट्टी देने और अग्रोहा मेडिकल में मशीन से टेस्ट से करवाने और क्वारंटाइन के निर्देशों को रोकने के मामलों की जांच के लिए उपायुक्त, एसपी, डिप्टी सीएमओ शिकायत दी है। सीएमओ ने भी उपायुक्त को शिकायत देकर मामले की जांच करने की मांग की।

डा. रमेश पुनिया के कार्यभार में बदलाव करने के मामले में कई नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया दी है, जिसमें किसी नेता ने इसे शर्मनाक बताया है तो किसी ने सिस्टम पर सवाल उठाए हैं। गौरतलब है कि जीव वैज्ञानिक डा. रमेश पुनिया ने अर्बन एस्टेट निवासी जजपा कार्यकर्ता को गुरुग्राम से लौटने पर और इनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव मिलने पर आइसोलेशन वार्ड में दाखिल करवा कर उनके घर के बाहर क्वारंटाइन कर पोस्टर लगाया था। डा. रमेश पूनिया ने आरोप लगाया था कि उक्त कार्यकर्ता ने उन्हें देख लेने की धमकी दी थी।

कार्यभार में बदलाव के बाद डा. पुनिया ने अपनी आपबीति फेसबुक पर पोस्ट व वीडियो डाल कर की थी। डा. पूनिया ने डिप्टी सीएमओ को दी शिकायत में उपरोक्त युवक के परिजनों द्वारा उसके शहर में न होने की बात कहकर गुमराह करने और एंबुलेंस में आने के लिए काफी देर समझाने की बात का भी जिक्र किया है। वहीं उन्होंने कपिल ङ्क्षजदल के खिलाफ शिकायत होने पर कारवाई न होने की बात को भी उठाया है।

डा. रमेश पुनिया ने शिकायत में तीन मामलों में जांच की मांग की -

- अर्बन एस्टेट निवासी जजपा कार्यकर्ता की रिपोर्ट के साथ छेड़छाड़ के मामले की जांच हो।

- इसी युवक के वीआईपी सूट में ठहरने की जांच करवाई जाए, क्योंकि प्रशासन ने वहां ठहरने से मना किया हुआ है।

- आइसोलेशन में तीन घंटे बिताने के बाद इस युवक को छुट्टी क्यों दी गई।

- अग्रोहा मेडिकल की मशीन से टेस्ट से क्यों करवाया गया, इस टेस्ट की रिपोर्ट एक घंटे में दी गई थी। जबकि इसकी मान्यता नहीं है।

उपायुक्त ने मामले में एसपी को जांच के आदेश दिए -

अर्बन एस्टेट निवासी जजपा कार्यकर्ता युवक की कोरोना जांच की दो रिपोर्ट जारी होने के मामले में उपायुक्त डा. प्रियंका सोनी ने मामले की जांच एसपी को सौंपी है। गौरतलब है कि अर्बन एस्टेट निवासी उपरोक्त युवक गुरुग्राम से लौटा था, यहां आने पर उसकी एक रिपोर्ट पॉजिटिव मिली थी और दूसरी रिपोर्ट नेगेटिव। यह दोनों रिपोर्ट एक ही लैब की थी। जिसके बाद मामले में सीएमओ ने उपायुक्त को जांच करने की मांग की थी।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने डा. सुरभि को क्वारंटाइन की जिम्मेदारी के आदेश वापस लिए -

बहुउदे्श्यीय स्वास्थ्य कर्मचारी एसोसिएशन के जिला प्रधान अनिल गोयत ने बताया कि मंगलवार को सीएमओ, डिप्टी सीएमओ, डा. रमेश पूनिया तथा 29 एमपीएचडब्लू कर्मचारियों के साथ बैठक की। प्रधान अनिल गोयत ने बताया कि हमें क्वारंटाइन के पोस्टर लगाने, एफआईआर दर्ज करवाने के लिए एक अधिकारी की जरुरत होती है। इसलिए हमने सीएमओ डा. योगेश व डिप्टी सीएमओ डा. जया गोयल से डा. सुरभि को क्वारंटाइन के नोडल अधिकारी की जिम्मेदारी से हटाने का आग्रह किया। जिसे सीएमओ व डिप्टी सीएमओ ने तूरंत मान लिया। प्रधान अनिल गोयत ने बताया कि बैठक में वीवीडी कार्य का नोडल अधिकारी डा. रमेश पूनिया को बनाया। वहीं क्वारंटाइन के कार्य के लिए डा. सुरभि को हटाकर डा. सुभाष खटरेजा व एक अन्य डॉक्टर को नोडल अधिकारी बनाया गया है। अनिल गोयत ने बताया कि डा. रमेश पुनिया के मामले में राजनीतिकरण की बात सामने आ रही है।

अजय खरींटा ने मुख्यमंत्री को शिकायत दी -

ऑल हरियाणा पैट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के जिला सचिव अजय खरींटा ने मुख्यमंत्री को शिकायत देकर डा. रमेश पुनिया को उनकी क्वारंटाइन की ड्यूटी दोबारा दिलवाने की मांग की है। उन्होंने लिखा है कि डा. रमेश पूनिया मेहनत, निष्ठा, ईमानदारी से डयूटी करते रहे है। हाल में जो वाकया घटित हुआ, इससे एक गलत प्रथा का चलन शुरु हो गया है।

---कुमारी शैलजा ने फेसबुक पर लिखा है शर्मनाक, जब कोरोना योद्धा अपनी जान जोखिम में डाल हमारी सेवा में लगे है, उस वक्त सत्ता पक्ष के लोग इन योद्धाओं को धमकी दे रहे है व उनका कार्यभार छीन प्रताडि़त किया जा रहा है। मुख्यमंत्री को कहते हुए लिखा क्या सत्ता पक्ष के लोगों के लिए महामारी में अलग-अलग नियम बनाए गए है।

---दीपेंद्र ङ्क्षसह हुड्डा ने लिखा पूरा देश कोरोना से एकजुटता से लड़ रहा है। लेकिन राजनीतिक रसूख के अहंकार में कुछ लोग नियमों से खिलवाड़ कर खुद सबकी जान जोखिम में डाल रहे है। हिसार जेजेपी नेता के घर पर होम आइसोलेशन का पोस्टर लगाने पर डा. रमेश पूनिया को कार्यभार से बदलना दुर्भाग्यपूर्ण है, उन्हें जिम्मेदारी वापस दी जाए।

--अर्बन एस्टेट निवासी युवक की दो रिपोर्ट कैसे आई है। इस मामले में जांच के लिए उपायुक्त को शिकायत देकर जांच की मांग की है। एसोसिएशन के साथ बैठक के बाद डॉक्टरों के कार्यभार में बदलाव किया गया है।

- डा. योगेश शर्मा, सीएमओ, हिसार।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस