हिसार/हांसी, जेएनएन। कोरोना वैक्सीनेशन अभियान युद्ध स्तर पर जारी है। लेकिन, वैक्सीनेशन अभियान में कुछ तकनीकी खामियां भी सामने आ रही हैं। हांसी में एक व्यक्ति ने वैक्सीनेशन करवाया भी नहीं और टीका लगाने का मैसेज मोबाइल पर आ गया।

दरअसल, मॉडल टाउन निवासी बैंक मैनेजर आरएन तंवर ने सोमवार सुबह 9 बजकर 8 मिनट पर आरोग्य सेतु एप पर रजिस्ट्रेशन करवाया था। उन्हें रेफरेंस नंबर अलॉट हुआ जिसमें बताया गया कि दोपहर बाद उन्हें हांसी सिविल अस्पताल में वैक्सीन दी जाएगी। इसके बाद वह आराम से घर बैठे थे कि डेढ़ घंटे बाद साढ़े 11 बजे उनके मोबाइल पर मैसेज आया कि उन्हें वैक्सीन की प्रथम डोज दी जा चुकी है। मैसेज देखकर वह हैरान रह गए कि वैक्सीन लगवाए बगैर ही उन्हें मैसेज कैसे आ गया। इसके बाद वह अपने निर्धारित समय पर अस्पताल गए और मैसेज के बारे में शिकायत की तो किसी कर्मचारी के पास कोई जवाब नहीं था। आखिर उन्होंने वैक्सीनेशन करवाते हुए कोविशिल्ड की पहली डोज ले ली और घर लौट आए।

कितनी बड़ी खामी है...

सीनियर मैनेजर आरएन तंवर ने बताया कि कोरोना महामारी के दौर में यह कोई छोटी खामी नहीं है। वैक्सीनेशन होने से पहले ही टीका लगा दिए जाने का मैसेज आना सिस्टम की गंभीर चूक है। वैक्सीनेशन बड़ा ही गंभीर कार्य है और इसे लेकर सुरक्षित मैकेनिज्म होना चाहिए। संभव है कि न जाने कितने लोगों को इस प्रकार से मैसेज आते होंगे। इसका गलत इस्तेमाल भी हो सकता है। सिविल अस्पताल प्रशासन के पास भी कोई जवाब नहीं था। डॉक्टर केवल एक ही बात बोल रहे थे कि पोर्टल की खामी है हम कुछ नहीं कर सकते। 

संक्रमण बढ़ा, वैक्सीनेशन तेज

सोमवार को हांसी में कोरोना के दस नए केस सामने आए हैं। 33 एक्टिव केस फिलहाल हांसी में हैं। इनमें से 28 होम आइसोलेशन में रखे गए हैं। हांसी में भी पीएम मोदी के आह्वान पर टीका उत्सव मनाया जा रहा है। इसके तहत बड़े स्तर पर अभियान चलाते हुए वैक्सीनशन का कार्य जारी है। हांसी में रविवार तक 4017 व्यक्तियों को रविवार तक वैक्सीन दी चुकी है। शहर की आबादी की बात करें तो 90 हजार के आसपास है। ऐसे में करीब 5 फीसद लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा चुका है।

 

हिसार की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप